UP Crime: बेरहमी की हदें पार, आग में फेंके गए दो बच्चों की हालत बिगड़ी, Lucknow भेजे गये

 
UP Crime: Cruelty crossed the limits, the condition of two children thrown in the fire worsened, sent to Lucknow
पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि मौरावां क्षेत्र के एक गांव में बलात्कार पीड़िता द्वारा सुलह नहीं किए जाने से नाराज आरोपियों ने गत 17 अप्रैल को उसके (पीड़िता) और उसकी मां के साथ मारपीट की थी और बाद में पीड़िता के बच्चे को मारने के इरादे से घर में लगा दी थी।

UP Crime: उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के मौरावां क्षेत्र के एक गांव में एक दलित बलात्कार पीड़िता द्वारा सुलह नहीं किए जाने से नाराज आरोपियों के हाथों आग में फेंके गए दो बच्चों को बुधवार को हालत बिगड़ने पर लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में भेज दिया गया है।

UP Crime: Cruelty crossed the limits, the condition of two children thrown in the fire worsened, sent to Lucknow

पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि मौरावां क्षेत्र के एक गांव में बलात्कार पीड़िता द्वारा सुलह नहीं किए जाने से नाराज आरोपियों ने गत 17 अप्रैल को उसके (पीड़िता) और उसकी मां के साथ मारपीट की थी और बाद में पीड़िता के बच्चे को मारने के इरादे से घर में लगा दी थी।

UP Crime: Cruelty crossed the limits, the condition of two children thrown in the fire worsened, sent to Lucknow

उन्होंने बताया कि बलात्कार पीड़िता और उसकी मां ने आरोप लगाया था कि आरोपियों ने दोनों बच्चों को आग में फेंक दिया था और आग से झुलसे पीड़िता के छह माह के बेटे और पीड़िता की दो माह की बहन को 18 अप्रैल को उन्नाव जिला अस्पताल से कानपुर के उर्सला हॉस्पिटल में भेज दिया गया।

UP Crime: Cruelty crossed the limits, the condition of two children thrown in the fire worsened, sent to Lucknow

उन्होंने बताया कि दोनों बच्चों को आज हालत बिगड़ने पर लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में भेज दिया गया है। सूत्रों ने बताया कि 11 वर्षीय दलित लड़की के साथ 13 फरवरी 2022 को सामूहिक बलात्कार किया गया था।

UP Crime: Cruelty crossed the limits, the condition of two children thrown in the fire worsened, sent to Lucknow

उसने उसी साल सितंबर को एक बेटे को जन्म दिया था। उर्सला अस्पताल के निदेशक डाक्टर एस. पी. चौधरी ने बताया कि बच्चों को उन्नाव बेहतर इलाज के लिए यहां भेजा गया था। उन्होंने बताया कि बच्चो का बेहतर इलाज चल रहा था, लेकिन निरीक्षण के दौरान पीड़िता के बेटे को झटके आते दिखाई दिए, साथ ही दोनो बच्चों के सिर में एक ओर सूजन दिखाई पड़ा था।

पीड़ित परिवार का आरोप है कि अभियुक्तों ने दोनों बच्चों को आग में फेंक दिया था, जिससे उन्हें सिर में चोट आई थी। दोनों का सीटी स्कैन कराया गया, जिसमें दोनों के सिर की हड्डी में फैक्चर मिला। उन्होंने बताया कि उर्सला अस्पताल में विशेषज्ञ की व्यवस्था नहीं होने पर दोनों बच्चों को लखनऊ भेज दिया गया है।