सैफई मेला ग्राउंड लाया गया मुलायम सिंह यादव का पार्थिव शरीर

लोग नम आंखों से दे रहे अंतिम विदाई

 
The body of Mulayam Singh Yadav was brought to Saifai Fair Ground

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आज दोपहर तीन बजे इटावा में स्थित उनके पैतृक गांव सैफई में अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके पार्थिव शरीर को मेला ग्राउंड पंडाल ले जाया जा रहा है। अंतिम संस्कार में पीएम मोदी सहित कई राज्यों के सीएम शामिल हो सकते हैं।

समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आज दोपहर तीन बजे उनके पैतृक गांव सैफई (Saifai) में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के अंतिम दर्शन के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi), रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंंत्री योगी आदित्यनाथ, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar), पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन, बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सहित कई राजनेता सैफई पहुंच सकते हैं। आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू सैफई पहुंच गए है। वे यहां अंतिम संस्कार में शामिल होंगे।

गौरतलब है कि मुलायम सिंह यादव का सोमवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में 82 साल की उम्र में निधन हो गया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को सैफई जाकर सपा संरक्षक को श्रद्धांजलि अर्पित की। मुलायम सिंह के निधन पर उत्तर प्रदेश में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। 

सैफई में मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार की तैयारी हो रही है। कन्नौज से चंदन की लकड़ियां लेकर सपा कार्यकर्ता सैफई पहुंच रहे हैं। बताया जा रहा है कि नेताजी के अंतिम संस्कार में भारी संख्या में उनके समर्थक और सपा कार्यकर्ता शामिल हो सकते हैं। सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए सैफई में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात हैं।  

मुलायम सिंह यादव का उनके पैतृक गांव सैफई में आज दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा। उससे पहले उनके बेटे अखिलेश यादव ने अपनी पत्नी डिंपल यादव के साथ अंतिम संस्कार के पहले की विधियां पूरी की।  

The body of Mulayam Singh Yadav was brought to Saifai Fair Ground

मुलायम सिंह यादव को दोपहर तीन बजे मुखाग्नि दी जाएगी। उसके पहले मेला ग्राउंड पंडाल में उनके अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है। पंडाल जिसका जलवा कायम है, उसका नाम मुलायम है के नारे से गूंजायमान है।

मुलायम सिंह यादव का सैफई में दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। हर कोई अपने नेता को श्रद्धांजलि देना चाहता है।

केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (सीटीए) ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन पर शोक संतप्त परिवार को पत्र लिखकर संवेदना व्यक्त की है। मुलायम सिंह का आज उनके पैतृक गांव सैफई में राजकीय सम्मान के साथ दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा।

आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू सैफई पहुंच गए हैं। वे यहां मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे। दोपहर तीन बजे नेताजी का अंतिम संस्कार किया जाएगा। 

मुलायम सिंह यादव का मथुरा से भी खास लगाव रहा। वे यहां की कचौड़ी और दही के साथ जलेबी के दीवाने थे। वे जब भी मथुरा आते, इसे खाना नहीं भूलते थे।

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के पार्थिव शरीर को सैफई के मेला ग्राउंड में लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है। दोपहर तीन बजे पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

शिवपाल सिंह यादव, सपा सांसद राम गोपाल यादव, भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी और अन्य नेताओं और आम लोगों ने मुलायम सिंह यादव को अंतिम श्रद्धांजलि दी। लोग नेताजी के अंतिम दर्शन दोपहर दो बजे तक ही कर सकेंगे।

मुलायम सिंह यादव का पार्थिव शरीर सपा के झंडे में लिपटा हुआ है। लोग दो बजे तक ही नेताजी का अंतिम दर्शन कर सकते हैं। उसके बाद दोपहर तीन बजे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

The body of Mulayam Singh Yadav was brought to Saifai Fair Ground

सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के पार्थिव शरीर को मेला ग्राउंड पंडाल में लाया गया है। उनका दोपहर तीन बजे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा, जिसमें पीएम मोदी सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हो सकते हैं।  

मुलायम सिंह यादव के पार्थिव शरीर को मेला ग्राउंड पंडाल में ले जाया जा रहा है। इस दौरान उनके अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। अंतिम संस्कार दोपहर तीन बजे किया जाएगा।

कांग्रेस ने मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पूर्व सांसद कमलनाथ और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल को सैफई भेजा है। आज दोपहर तीन बजे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

मुलायम सिंह यादव 28 साल की उम्र में 1967 में पहली बार विधायक चुने गए थे। उन्होंने 4 अक्टूबर 1992 को समाजवादी पार्टी की स्थापना की थी। उनके बेटे अखिलेश यादव अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

मुलायम सिंह यादव की दो शादियां हुई थी। उनकी पहली पत्नी का नाम मालती, जबकि दूसरी पत्नी का नाम साधना गुप्ता है। मालती और मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश यादव है, जबकि साधना और मुलायम के बेटे प्रतीक हैं।

नेताजी मुलायम सिंह यादव का जन्म इटावा जिले के सैफई में 22 नवंबर 1939 को हुआ था। वे तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। इसके अलावा, 10 बार विधायक और 7 बार लोकसभा सदस्य चुने गए।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल होंगे। दोनों कांग्रेस का प्रतिनिधित्व करेंगे।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से मुलायम सिंह यादव का खास लगाव था। उनके चाहने वाले यहां सभी दलों में मौजूद हैं। लोग उन्हें धरती पुत्र कहते थे। वे विरोधी दल के नेताओं का भी सम्मान करते थे।

The body of Mulayam Singh Yadav was brought to Saifai Fair Ground

देश के रक्षा मंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यंत्री रह चुके मुलायम सिंह यादव का अंतिम संस्कार चंदन की लकड़ियों से किया जाएगा। इसके लिए कन्नौज से चंदन की लकड़ी, गुलाब के फूल लेकर सपा कार्यकर्ता सैफई पहुंचे हैं।

झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन मंगलवार को सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के अंतिम दर्शन करने के लिए मंगलवार को उत्तर प्रदेश के सैफई जाएंगे। उन्होंने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

यह बात 2004 की है। प्रयागराज के रामबाग में स्थित सेवा समिति विद्या मंदिर मैदान में जैसे ही सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव का हेलिकाप्टर पहुंचा, कार्यकर्ताओं ने नारा लगाया- जिसका जलवा कायम है, उसका नाम मुलायम है।

देश के रक्षा मंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार के लिए सैफई में कई हेलीपैड और वाटर प्रूफ पंडाल बनाए गए हैं। इसके अलावा, सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के अंतिम दर्शन के लिए आजम खान भी सोमवार को सैफई पहुंचे। उन्होंने नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान अखिलेश यादव ने हाथ पकड़कर उनको सहारा दिया। आजम खान लंबे समय से बीमार चल रहे हैं।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन पर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सैफई पहुंचकर नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का अंतिम संस्कार आज उनके पैतृक गांव सैफई में होगा। इसमें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के साथ कई मुख्यमंत्रियों के शामिल होने की उम्मीद है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को सैफई पहुंचकर सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि अर्पित की। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेन्द्र सिंह और जलशक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह ने भी नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

देश के पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार में पीएम मोदी के भी शामिल होने की संभावना है। हालांकि इस पर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।