Covid-19 Updates: दो हफ्ते के अंदर इन जिलों में तेजी से बढ़ गए कोरोना संक्रमित

 
Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks
आंकड़े बताते हैं कि देश में दो हफ्ते के अंदर 32 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत या इससे अधिक हो गया। वहीं, 63 ऐसे जिले हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट पांच से दस प्रतिशत के बीच है।

देश में एक बार फिर से कोरोना के मामलों में तेजी देखने को मिली है। संक्रमण का दर भी लगातार बढ़ रहा है। आंकड़े बताते हैं कि देश में दो हफ्ते के अंदर 32 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत या इससे अधिक हो गया। वहीं, 63 ऐसे जिले हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट पांच से दस प्रतिशत के बीच है।

24 घंटे में 1573 लोग संक्रमित पाए गए : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से मंगलवार जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में कोरोनावायरस के 1,573 नए मामले सामने आए हैं, जबकि सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 10,981 हो गई है। केरल में संक्रमण के चलते चार लोगों की मौत हो गई। इसी के साथ कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 5,30,841 हो गई है।

Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks
 

डेली पॉजिटिविटी रेट 1.30 प्रतिशत हुई : देश में इस वक्त डेली पॉजिटिविटी रेट 1.30 प्रतिशत है। मतलब जितने लोग कोरोना की जांच करा रहे हैं, उनमें 1.30 प्रतिशत लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं। वीकली पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो ये 1.47 प्रतिशत दर्ज की गई है।

 

Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks

4.47 करोड़ लोग चपेट में : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में अब तक चार करोड़ 47 लाख 07 हजार 525 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 0.02 प्रतिशत मामले एक्टिव हैं, जबकि 98.79 प्रतिशत लोग ठीक हो चुके हैं। 1.19 प्रतिशत लोगों की संक्रमण के चलते मौत हो गई। 

 

220 करोड़ से ज्यादा डोज दिए गए : स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक कोविड टीके की 220.65 करोड़ खुराक दी जा चुकी है।

 

Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks

32 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से अधिक : आंकड़े बताते हैं कि 32 ऐसे जिले हैं, जहां मौजूदा समय 10 प्रतिशत से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है। आठ से 14 मार्च के बीच ऐसे नौ जिले थे। जबकि 15 जिलों में पांच से दस प्रतिशत तक पॉजिटिविटी रेट थी। 12 से 18 मार्च के बीच दस प्रतिशत या इससे अधिक वाले पॉजिटिविटी रेट वाले शहरों की संख्या 14 हो गई।

इस दौरान 34 ऐसे जिले थे, जहां पांच से दस प्रतिशत के बीच पॉजिटिविटी रेट थी। 19 से 25 मार्च के बीच ऐसे शहरों की संख्या में तेजी बढ़ोतरी देखने को मिली। इस बीच, 32 ऐसे जिले हो गए जहां दस प्रतिशत या इससे अधिक पॉजिटिविटी रेट है, जबकि 63 जिलों में पांच से दस प्रतिशत के बीच पॉजिटिविटी रेट है। 

Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks
 

दिल्ली के चार जिलों में सबसे ज्यादा खराब हालत : सबसे अधिक पॉजिटिविटी रेट वाले जिलों में दिल्ली के चार जिले शामिल हैं। साउथ दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 13.8% है। ईस्ट दिल्ली में 13.1%, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में 12.3%, सेंट्रल दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 10.4% है। 

 

महाराष्ट्र, केरल और गुजरात के ये जिले भी शामिल : दिल्ली के अलावा सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले जिले महाराष्ट्र, केरल और गुजरात में हैं। आंकड़े बताते हैं कि केरल के वायनाड में कोविड की पॉजिटिविटी रेट 14.8% है, जबकि कोट्टयम में 10.5% है। इसी तरह महाराष्ट्र के सांगली में 14.6% और पुणे में 11.1% पॉजिटिविटी रेट है। गुजरात के अहमदाबाद जिले में 10.7% पॉजिटिविटी रेट है। 

 

पिछले साल की तरह दिख रहे हालात : डॉक्टर्स का कहना है कि मौजूदा समय जो हालात हैं, वो ठीक पिछले साल जनवरी से मार्च की तरह हैं। तब भी तीसरी लहर के दौरान लोगों में कोरोना के समान लक्षण दिख रहे थे। 

 

Covid-19 Updates: Corona infected increased rapidly in these districts within two weeks

मरीज बढ़ रहे, लेकिन अच्छी बात ये है कि अस्पतालों में भीड़ नहीं: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के राष्ट्रीय कोविड टास्क फोर्स के सह-अध्यक्ष डॉ. राजीव जयदेवन कहते हैं कि कोरोना के मामलों में तेजी आई है, लेकिन राहत की बात है कि अभी हालात इतने नहीं बिगड़े हैं कि अस्पतालों में भीड़ बढ़े। देश भर के अस्पतालों में अभी तक कोविड रोगियों की भीड़ नहीं लग रही है। ऐसे में हमें इस डेटा को और अधिक बारीकी से देखने की जरूरत है। 

 

गंभीर लक्षण वाले मरीजों की संख्या कम : दिल्ली के लोक नायक अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. सुरेश कुमार कहते हैं कि वर्तमान में अस्पताल में दो कोविड-19 मरीज भर्ती हैं। एक मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर है जबकि दूसरे को वेंटिलेटर सपोर्ट की जरूरत है। मतलब कोरोना मरीजों की संख्या जरूर बढ़ रही है, लेकिन गंभीर रोगी अभी कम है। ये राहत की बात है।