Haldwani Violence: हल्द्वानी हिंसा में DGP ने किया बड़ा खुलासा, घटना में हुई अब तक 5 की मौत

 
Haldwani Violence
हल्द्वानी हिंसा में DGP अभिनव कुमार ने शुक्रवार को बड़ा अपडेट दिया है। हिंसा में करने वालों की संख्या पांच हो गई है। वहीं तीन घायलों की हालत गंभीर है। उन्होंने इसक घटना को एक साजिश बताया है।

Haldwani Violence: उत्तराखंड के हल्द्वानी में गुरुवार को हुई हिंसा में अब तक 5 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, 3 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। DGP अभिनव कुमार ने शुक्रवार को इसकी पुष्टि की है। DGP अभिनव कुमार ने हल्द्वानी के ताजा हालातों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि हिंसा को लेकर 3 FIR दर्ज की हैं।

इस मामले में अब तक 3 उपद्रवियों को गिरफ्तार भी कर लिया है। इसके अलावा 20 की पहचान हुई है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर कर लिया जाएगा। डीजीपी अभिनव कुमार ने कहा कि यह एक साजिश है।

Haldwani Violence

उन्होंने आरोपियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की बात कहते हुए एनएसए लगाने के लिए कहा है। उत्तराखंड के डीजीपी अभिनव कुमार ने बताया कि मरने वालों की संख्या पांच हो गई है। पुलिस ने पहले कहा था कि उन्हें आत्मरक्षा में गोली चलाने के लिए मजबूर किया गया था।

जिले में कर्फ्यू और भारी पुलिस तैनाती जारी है। डीजीपी ने बताया कि मौजूदा हालात को देखते हुए 10 कंपनी पैरामिलिट्री फोर्स और 6 कंपनी PAC की तैनात की गई है। इस हिंसा में 100 पुलिसकर्मी समेत 139 लोग घायल हैं।

Haldwani Violence

डीजीपी अभिनव कुमार से पहले नैनीताल की डीएम वंदना सिंह ने कहा कि कोर्ट के आदेश पर नगर निगम की टीम अवैध अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रही थी तो अधिकारियों को जिंदा चलाने की कोशिश की गई।

डीएम ने कहा कि भीड़ ने पेट्रोल बम फेंके। इसके बाद आगजनी की घटनाएं शुरू हुईं। टीमें पीछे नहीं हटीं तो भीड़ ने थाने का घेराव कर लिया। इस दौरान थाने में मजिस्ट्रेट और पुलिसकर्मी मौजूद थे। थाने में बैठे लोगों को बाहर नहीं निकलने दिया गया।

Haldwani Violence

पहले पथराव किया गया और फिर पेट्रोल बम फेंके गए। वाहनों में आग लगा दी गई। जब भीड़ नहीं हटीं तो फायरिंग करनी पड़ी। बनभूलपुरा इलाके में कथित तौर पर नजूल भूमि पर एक मस्जिद और एक मदरसा खड़ा था, गुरुवार को प्रशासन उसको गिरने गया तो हिंसा भड़क गई थी।

पथराव, कारों में आग लगाने और एक पुलिस स्टेशन को घेरने के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने देखते ही गोली मारने के आदेश जारी किए थे।

Haldwani Violence