Independence Day 2023: महान क्रांतिकारी गेंदालाल दीक्षित जिन्होने तोड़ दी थी अंग्रेजों की कमर और जिससे हिल गई थी ब्रिटिश हुकूमत

 
Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule
गेंदालाल दीक्षित को क्रांतिकारी द्रोणाचार्य मानते थे। आगरा मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरी की पढ़ाई छोड़ कर इटावा जिले की औरैया तहसील में डीएवी स्कूल के हेडमास्टर हो गए थे।

Independence Day 2023: देश आजाद कराने के लिए क्रांतिकारियों ने हर संभव कोशिश की। बेवर में ठिकाना बनाने वाले क्रांतिकारी गेंदालाल दीक्षित ने ब्रिटिश हुकूमत तक आजादी के दीवानों की आवाज पहुंचाने के लिए 21 साथियों की टोली बनाई। गरम दल के क्रांतिकारियों के पास बम बनाने का सामान भी पहुंचाया। युवाओं को एकजुट करके भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाकर लोगों में आजादी के लिए चेतना जगाई।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

बेवर में रहकर आजादी की अलख जगाने वाले गेंदालाल दीक्षित का जन्म माईगांव बटेश्वर आगरा में हुआ था। उन्होंने मथुरा और औरैया में रहकर युवाओं को एकजुट किया। अपने साथियों के साथ कोलकाता पहुंचकर योगेश चंद्र चटर्जी के साथ क्रांतिकारियों से सीधा संपर्क किया।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

ब्रिटिश शासन तक आजादी के दीवानों की आवाज पहुंचाने के लिए 21 युवाओं की टोली बनाई। आजादी आंदेालन के दौरान ग्वालियर में पकड़े जाने पर उनको अंग्रेज शासकों ने मैनपुरी जेल भेज दिया।मैनपुरी जेल में रहने के दौरान मैनपुरी के क्रांतिकारियों के संपर्क में आने के बाद मैनपुरी के बेवर को ही अपना ठिकाना बना लिया।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

उनकी टोली में सिकंदरपुर के रहने वाले उरुज मोअज्जम भी शामिल हो गए। गरम दल के क्रांतिकारियों के पास बम बनाने का सामान पहुंचाने में पकड़े जाने पर गेंदालाल दीक्षित को जेल काटनी पड़ी। उनकी टोली के सदस्यों ने जेल में रहकर भी हार नहीं मानी। अंग्रेज पुलिस से बचने के लिए दिल्ली में एक प्याऊ पर रहकर गेंदालाल ने लोगों को पानी भी पिलाया।

द्रोणाचार्य के नाम से थी पहचान - गेंदालाल दीक्षित को क्रांतिकारी द्रोणाचार्य मानते थे। आगरा मेडिकल कॉलेज में डाक्टरी की पढ़ाई छोड़ कर इटावा जिले की औरैया तहसील में डीएवी स्कूल के हेडमास्टर हो गए थे। शिवाजी समिति के जरिए गुरिल्ला वार के अनोखे प्रयोग किए।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

ब्रह्मचारी लक्ष्मणानंद के साथ मिलकर चंबल घाटी के दस्यु सरदारों को क्रांति-योद्धा बना दिया। 21 दिसंबर 1920 को दिल्ली के एक अस्पताल में गुमनाम रहते हुए अपनी अंतिम यात्रा पर चले गए। 1997 में शहीद मंदिर बेवर में इनकी प्रतिमा स्थापित की गई। औरैया में 12 अगस्त 2015 को गेंदालाल की प्रतिमा स्थापित हुई।

सिकंदरपुर निवासी स्वतंत्रता सेनानी उरुज मोअज्जम के पुत्र सैयद मोअज्जम बताते हैं कि आजादी पाने के लिए हर कोई जाति, धर्म भूलकर आंदोलन में शामिल हुआ था। डीएम कोठी के पास गांव होने के कारण सिकंदरपुर पर अंग्रेज पुलिस की निगाह रहती थी। आजादी के मतवालों का ठिकाना उनका घर होता था।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

आज भी गांव के लोग स्वतंत्रता दिवस पर उनके किस्सों को भी याद करते हैं। साहित्यकार दीन मोहम्म्द दीन बताते हैं कि जिले के स्वतंत्रता सेनानियों की याद में मुख्यालय पर कोई ना कोई स्मारक बनाया जाना चाहिए।

Independence Day 2023: Great revolutionary Gendalal Dixit who broke the back of the British and shook the British rule

नगर पालिका में भी एक पट्टिका लगाई जानी चाहिए। जिससे युवा पीढ़ी को आजादी के दीवानों के बारे में जानकारी हो सके। देश को आजाद कराने वाले क्रांतिकारियों के परिवारों को संरक्षण मिलना चाहिए। स्वतंत्रता सेनानियों के लिए कोई पहल होनी चाहिए।