India China Relations: CHINA और PAK के साथ और बिगड़ेंगे भारत के रिश्ते, खुफिया तंत्र ने कहा - हो सकता है संघर्ष

 
India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict
यूएस इंटेलिजेंस कम्युनिटी के वार्षिक खतरे के आकलन ने बताया कि भारत और चीन के बीच पिछले गतिरोध से पता चला है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लगातार निम्न-स्तर के घर्षण में तेजी से बढ़ने की क्षमता है।

India China Relations: अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में चीन औऱ पाकिस्तान के साथ भारत के संबंधों को लेकर बड़ा दावा किया है। यूएस इंटेलिडेंस ने सांसदों से आशंका जताई है कि भारत पाकिस्तान और भारत चीन के बीच तनाव बढ़ सकता है।

इसके साथ ही दोनों देशों के बीच संघर्ष की आशंका भी जताई है। एक अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि विवादित सीमा पर भारत और चीन दोनों की विस्तारित सैन्य मुद्राएं दोनों परमाणु शक्तियों के बीच सशस्त्र टकराव के जोखिम को बढ़ाती हैं।

यूएस इंटेलिजेंस कम्युनिटी के वार्षिक खतरे के आकलन ने बताया कि भारत और चीन के बीच पिछले गतिरोध से पता चला है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लगातार निम्न-स्तर के घर्षण में तेजी से बढ़ने की क्षमता है।

India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict

विवादित सीमा पर भारत और चीन दोनों की विस्तारित सैन्य मुद्रा दो परमाणु शक्तियों के बीच सशस्त्र टकराव के जोखिम को बढ़ाती है जिसमें अमेरिकी लोगों और हितों के लिए सीधा खतरा हो सकता है और अमेरिकी हस्तक्षेप की मांग की जा सकती है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत-चीन संबंध 2020 में देशों की घातक गलवान झड़प के मद्देनजर तनावपूर्ण रहेंगे, जो दशकों में सबसे गंभीर है, भले ही दोनों पक्ष सीमा वार्ता में लगे हुए हैं। यह रिपोर्ट विदेश मंत्री एस जयशंकर द्वारा अपने चीनी समकक्ष को भारत-चीन संबंधों की स्थिति "असामान्य" बताए जाने के कुछ दिनों बाद आई है।

India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict

पूर्वी लद्दाख में 34 महीने से अधिक समय से चल रहे सीमा विवाद के बीच 2 मार्च को जी20 विदेश मंत्रियों के सम्मेलन से इतर जयशंकर की किन गैंग के साथ पहली आमने-सामने मुलाकात हुई। भारत का कहना है कि जब तक सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति नहीं होगी तब तक चीन के साथ उसके संबंध सामान्य नहीं हो सकते।

पाक ने छेड़ा तो छोड़ेंगे नहीं पीएम मोदी, भारत कर सकता है बड़ा हमला

India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict

अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट में भारत-पाक को लेकर एक बड़ा दावा किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दोनों देशों में आने वाले समय में संबंध बिगड़ सकते हैं। वहीं, चीन के साथ भी तनाव बढ़ने की बात कही गई है। यह भी दावा किया गया है कि पाक के साथ आने वाले समय में भारत कोई बड़ा संघर्ष भी देख सकता है। अमेरिकी रिपोर्ट के बाद एक बार फिर सर्जिकल स्ट्राइक की बातें कही जा रही हैं। 

India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict

  • अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत और पाक में बड़े संघर्ष की संभावना है। 

  • रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर Pak ने इस बार उकसाया तो PM Modi अब तक के सबसे बड़े हमले का आदेश दे सकते हैं। भारत इस बार सर्जिकल स्ट्राइक से भी घातक जवाब दे सकता है और बड़े सैन्य बल के साथ उतर सकता है।

  • अमेरिकी दावे के अनुसार, पाक को इसबार खासा बचकर रहना होगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाक का लंबा इतिहास है कि वो आतंकी समूहों का समर्थन करता रहा है, लेकिन अब भारत को छेड़ा गया तो इस बार पीएम मोदी अपनी सेना के साथ माकूल जवाब देने के मूड में हैं।

India China Relations: India's relations with CHINA and PAK will deteriorate further, intelligence said - there may be conflict

  • अमेरिका द्वारा हर साल जारी होने वाली इस रिपोर्ट में भारत और अमेरिकी लोगों के हितों को होने वाले खतरे पर भी चेताया गया है। रिपोर्ट को राष्ट्रीय खुफिया निदेशक के कार्यालय द्वारा अमेरिकी कांग्रेस को प्रस्तुत किया गया और कहा गया कि भारत और चीन के संबंध भी तनावपूर्ण रहने वाले हैं। 

  • रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और चीन द्विपक्षीय सीमा वार्ता में लगे हुए हैं और सीमा समस्या को सुलझा रहे हैं, लेकिन 2020 में दोनों देशों के बीच घातक संघर्ष के मद्देनजर संबंध तनावपूर्ण ही रहेंगे। यह इस दशकों में सबसे गंभीर होंगे।

  • दावे के अनुसार LAC पर भारत-चीन में फिर से संघर्ष भी देखने को मिल सकता है।

  • रिपोर्ट पर बोलते हुए अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कश्मीर में सक्रिय लश्कर-ए-तैयबा और खालिस्तानी आतंकवादी समूहों पर भी बात की। उन्होंने कहा कि अमेरिका इन चुनौतियों से निपटने के लिए अपनी साझेदारी का विस्तार करना चाहता है। कोई भी समूह जो क्षेत्रीय और वैश्विक स्थिरता के लिए खतरा है, निश्चित रूप से हमारे लिए चिंता का विषय है।