Jharkhand News: जानिये कौन है पुलिस, ED और CBI के लिए मोस्ट वांटेड दाहू यादव? जो 16 महीने से है फरार

 
Jharkhand News
दाहू यादव 16 महीनों से पुलिस के साथ-साथ ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों के लिए चुनौती बना हुआ है।

सर्वोच्च अदालत तक ने दाहू को अगस्त महीने में दो हफ्ते के भीतर ईडी कोर्ट में सरेंडर करने का आदेश दिया था, लेकिन वह अब तक फरार है।

Jharkhand News: 16 महीनों से झारखंड के साहिबगंज में अवैध पत्थर माइनिंग का सरगना राजेश यादव उर्फ दाहू यादव पुलिस के साथ-साथ ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों के लिए चुनौती बना हुआ है। शीर्ष अदालत तक ने उसे अगस्त महीने में दो हफ्ते के भीतर ईडी कोर्ट में सरेंडर करने का आदेश दिया था, लेकिन वह अब तक फरार है।

इस बीच सीबीआई की टीम ने 12 दिसंबर मंगलवार को उसके आवास पर दबिश दी। लगभग 40 मिनट तक सीबीआई की टीम वहां रुकी और छानबीन के बाद लौट गई। अवैध खनन मामले में दाहू यादव के खिलाफ ईडी अदालत में चार्जशीट फाइल कर चुकी है।

उसके घर की कुर्की हो चुकी है। पुलिस की टास्क फोर्स उसकी गिरफ्तारी के लिए अब तक 100 से भी ज्यादा छापेमारी कर चुकी है, लेकिन वह उसकी छाया तक भी नहीं पहुंच पाई है। दाहू का नाम पत्थर खनन में ही नहीं, हत्या-अपहरण, लूटपाट और रंगदारी वसूली के दो दर्जन से भी ज्यादा आपराधिक मामलों में भी आ चुका है।

Jharkhand News

दाहू ईडी के समन पर आखिरी बार 18 जुलाई 2022 को रांची स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में पेश हुआ था। अगले दिन मां की बीमारी का हवाला देकर उसने मोहलत मांगी। इसके बाद कई बार ईडी कोर्ट से समन जारी हुआ, लेकिन वह हाजिर नहीं हुआ।

दाहू के खिलाफ जब ईडी ने जांच का दायरा बढ़ाया तो उसके अवैध कारोबार के बड़े साम्राज्य का पता चला। उसने अकूत संपत्ति अवैध तरीके से अर्जित की है। ईडी के बार-बार के समन के बाद भी जब पूछताछ के लिए हाजिर नहीं हुआ तो ईडी ने कोर्ट में कुर्की जब्ती के लिए अर्जी दी।

कुर्की जब्ती रुकवाने के लिए दाहू यादव ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की, लेकिन वह सामने नहीं आया। हाईकोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी। इसके बाद उसने सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर की, लेकिन यहां भी उसे राहत नहीं मिली।

Jharkhand News

जस्टिस अनिरुद्ध बोस और जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की अदालत ने दाहू यादव की याचिका खारिज करते हुए उसे 15 दिनों में ईडी कोर्ट में सरेंडर करने का आदेश दिया था। उसने इस आदेश का भी पालन नहीं किया। इसके बाद दाहू यादव और उसके छोटे भाई जिला परिषद उपाध्यक्ष सुनील यादव के घर भी कुर्की जब्ती की गई।

पुलिस दाहू यादव के बेटे राहुल यादव की भी तलाश कर रही है। रांची स्थित ईडी स्पेशल कोर्ट से राहुल की गिरफ्तारी के लिए महीनों पहले गैर-जमानती वारंट जारी हो चुका है। इस बीच झारखंड हाईकोर्ट के आदेश पर साहिबगंज के नींबू पहाड़ में अवैध खनन मामले की सीबीआई जांच बीते अगस्त महीने से शुरू हुई है।

इस मामले में भी दाहू यादव की तलाश है। तब से लेकर अब तक सीबीआई की टीम पांच बार साहिबगंज आ चुकी है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने सोशल मीडिया पर दाहू यादव के बारे में पूर्व में कई पोस्ट किए हैं।

Jharkhand News

उन्होंने लिखा था कि साहिबगंज पुलिस और प्रशासन के लोग यह जानते हैं कि दाहू मुफसिल थाना के पहाड़ पर भारी संख्या में हथियारबंद लोगों के साथ मजे से रह रहा है। घूम रहा है। लोगों से मिलता-जुलता है। उन्होंने आरोप लगाया था कि पुलिस की सुरक्षा में उसे इस पहाड़ से उस पहाड़ पहुंचाया जा रहा है।

दाहू यादव तो नहीं लेकिन उसके भाई सुनील यादव को ईडी ने 26 अगस्त को गिरफ्तार किया था, तब से वह जेल में है। दाहू के पिता पशुपति यादव को भी अप्रैल महीने में गिरफ्तार किया गया था। वह फिलहाल जमानत पर जेल के बाहर हैं।

साहिबगंज के शोभनपुर भट्ठा गांव का रहने वाला दाहू यादव तकरीबन एक हजार करोड़ के अवैध माइनिंग घोटाले का सबसे बड़ा सरगना है। इस घोटाले में ईडी ने दाहू यादव एवं अन्य के खिलाफ पहली बार 8 जुलाई 2022 को छापेमारी की थी।

Jharkhand News

Jharkhand News

Jharkhand News