Kanchanjunga Express Accident: बचाव कार्य में बारिश बनी रोड़ा, डिब्बे में फंसे लोगों को निकालने की कोशिश जारी

 
Kanchanjunga Express Accident
मौके पर मौजूद राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, हमें आशंका है कि कुछ और लोग अंदर फंसे हो सकते हैं। इसलिए हम फिलहाल गैस कटर का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं।

Kanchenjunga Express Accident: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास रंगापानी स्टेशन पर आज (17 जून) बड़ा रेल हादसा हो गया। इस हादसे में अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 60 से ज्यादा घायल बताए जा रहे है।

Kanchanjunga Express Accident

टक्कर इतनी भीषण ती कि कंचनजंगा एक्सप्रेस के दो डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसे के तुरंत बाद एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और स्थानीय पुलिस की तमाम टीमें रेस्क्यू में जुटी हुई है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष जय वर्मा सिन्हा ने बताया कि कंचनजंगा एक्सप्रेस में मालगाड़ी ने पीछे से टक्कर मार दी है।

Kanchanjunga Express Accident

इसमें कंचनजंगा के 4 डिब्बे (1 गार्ड, 2 पार्सल और एक पैसेंजर बोगी) पटरी से उतर गए। इस हादसे में रेलवे स्टाफ के 3 लोगों समेत 15 लोगों की मौत हुई है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक बयान में कहा कि रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

Kanchanjunga Express Accident

उन्होंने कहा कि एनएफआर जोन में दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ है। बचाव कार्य युद्धस्तर पर जारी है। रेलवे, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ पूरे तालमेल के साथ काम कर रहे हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। मौके पर मौजूद राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, हमें आशंका है कि कुछ और लोग अंदर फंसे हो सकते हैं।

Kanchanjunga Express Accident

इसलिए हम फिलहाल गैस कटर का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। गैस कटर के इस्तेमाल से उनकी जिंदगी खतरे में पड़ सकती है। चूंकि हम अभी मैन्युअल प्रक्रिया का इस्तेमाल कर रहे हैं, इसलिए बचाव कार्य की रफ्तार धीमी है। बारिश के कारण मुश्किल बढ़ गई है।