Kargil Vijay Diwas 2023: कारगिल युद्ध में किस तरह भारतीय सेना ने पाकिस्तान को खदेड़ा, जानें अपना गौरवमयी इतिहास

 
Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history
कारगिल विजय दिवस, हर साल 26 जुलाई को मनाया जाने वाला एक स्मृति महोत्सव है। इस दिन भारतीय सैनिकों के बलिदान को याद किया जाता है और राष्ट्र के लिए उनके योगदान को स्वीकार किया जाता है।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

Kargil Vijay Diwas 2023: 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले भारतीय सैनिकों की बहादुरी और वीरता को श्रद्धांजलि देने के लिए हर साल 26 जुलाई को पूरे देश में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। यह दिन 'ऑपरेशन विजय' की जीत का जश्न है, जो 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान पर एक महत्वपूर्ण सैन्य जीत थी।

कारगिल युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में नियंत्रण रेखा (LOC) पर लड़ा गया था। यहां भारतीय सेना ने 'ऑपरेशन विजय' के तहत पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़कर प्रसिद्ध 'टाइगर हिल' और आसपास की अन्य महत्वपूर्ण चौकियों पर दोबारा कब्जा कर तिरंगा फहराया था।

यह युद्ध दो दक्षिण एशियाई पड़ोसियों के बीच प्रमुख सैन्य संघर्षों में से एक था और इसके परिणामस्वरूप जीवन और संसाधनों की महत्वपूर्ण हानि हुई। यह भारत और पाकिस्तान के बीच हुआ अब तक का आखिरी युद्ध था। इस साल कारगिल विजय दिवस की 24वीं वर्षगांठ है। 

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

कारगिल विजय दिवस, हर साल 26 जुलाई को मनाया जाने वाला एक स्मृति महोत्सव है। इस दिन भारतीय सैनिकों के बलिदान को याद किया जाता है और राष्ट्र के लिए उनके योगदान को स्वीकार किया जाता है। यह कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान पर भारतीय सशस्त्र बलों की जीत का जश्न है। कारगिल युद्ध मई और जुलाई 1999 के बीच हुआ था।

कारगिल युद्ध जम्मू और कश्मीर के कारगिल जिले में भारत और पाकिस्तान के बीच एक सशस्त्र संघर्ष था। यह संघर्ष तब उत्पन्न हुआ जब लगभग 5,000 पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकवादियों ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की।

ऐसा माना जाता है कि तत्कालीन पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल परवेज़ मुशर्रफ ने तत्कालीन प्रधान मंत्री नवाज शरीफ की जानकारी के बिना नियंत्रण रेखा (LOC) के साथ ऊंचाई वाले क्षेत्रों में रणनीतिक जगहों (strategic positions) पर कब्जा कर लिया था, जो क्षेत्र में भारत और पाकिस्तान के बीच वास्तविक सीमा के रूप में कार्य करता है।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

युद्ध ने भारत को आक्रोश से भर दिया क्योंकि यह सीधे तौर पर घुसपैठ थी और शिमला समझौते का उल्लंघन भी, जिस पर 1972 में दोनों देशों के बीच शांति बनाए रखने के लिए हस्ताक्षर किए गए थे। घुसपैठ का उद्देश्य श्रीनगर को लेह से जोड़ने वाले महत्वपूर्ण राजमार्ग को काटना था, जिससे भारत की सुरक्षा और लद्दाख तक पहुंच के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा पैदा हो गया।

भारत सरकार ने पाकिस्तानी सेना और आतंकवादियों को बाहर निकालने और घुसपैठ वाले क्षेत्रों पर फिर से कब्जा करने के लिए 26 मई, 1999 को "ऑपरेशन विजय" शुरू करते हुए तेजी से प्रतिक्रिया दी। भारतीय वायु सेना के सहयोग से भारतीय सेना ने पाकिस्तानी घुसपैठियों को पीछे धकेलने के लिए चुनौतीपूर्ण इलाके और ख़राब मौसम की स्थिति में बहादुरी से लड़ाई लड़ी।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

युद्ध के दौरान जमीनी हमले के लिए भारतीय वायुसेना ने मिग-2आई, मिग-23, मिग-27, जगुआर और मिराज-2000 विमानों का इस्तेमाल किया। कारगिल युद्ध मई 1999 में शुरू हुआ जब पाकिस्तानी सेना के घुसपैठियों और सशस्त्र आतंकवादियों ने कारगिल में रणनीतिक जगहों (strategic positions) पर कब्जा कर लिया। भारतीय सशस्त्र बलों ने कब्जे वाले क्षेत्रों पर नियंत्रण हासिल करने और घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए 'ऑपरेशन विजय' नामक एक बड़ा सैन्य अभियान शुरू किया।

कारगिल युद्ध कब समाप्त हुआ? - कारगिल युद्ध लगभग दो महीने तक चला और इसके परिणामस्वरूप दोनों पक्षों को भारी नुक्सान हुआ। हालाँकि, 26 जुलाई 1999 को, भारतीय सेना ने रणनीतिक चोटियों पर सफलतापूर्वक कब्ज़ा कर लिया और जीत की घोषणा की। विभिन्न रिपोर्ट्स के अनुसार, कारगिल युद्ध में 500 से ज्यादा भारतीय सैनिक शहीद हुए थे, जबकि पाकिस्तान की ओर से यह संख्या 357 से 453 के बीच बताई गई है।

तोलोलिंग का युद्ध - तोलोलिंग की लड़ाई कारगिल युद्ध के पहले बड़े संघर्षों में से एक थी। भारतीय सेना की राजपूताना राइफल्स की दूसरी बटालियन ने तोलोलिंग और आस-पास की स्थिति से पाकिस्तानी सेना को हटाने के लिए हमलों की एक श्रृंखला शुरू की। इलाका बेहद चुनौतीपूर्ण था, खड़ी चट्टानें, संकरी चोटियां और अप्रत्याशित मौसम ने लड़ाई को और भी कठिन बना दिया था।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

टाइगर हिल की लड़ाई - टाइगर हिल की लड़ाई, जिसे प्वाइंट 5353 की लड़ाई के रूप में भी जाना जाता है। भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान हुई यह एक महत्वपूर्ण आर्मी वॉर थी। संघर्ष मई 1999 में शुरू हुआ जब पाकिस्तानी सेना ने सर्दियों के महीनों का फायदा उठाते हुए नियंत्रण रेखा के पार घुसपैठ की और क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने के प्रयास में टाइगर हिल सहित कई चोटियों पर कब्जा कर लिया।

उनका उद्देश्य उस महत्वपूर्ण राजमार्ग को काटना था जो कश्मीर घाटी को शेष भारत से जोड़ता था। इसका मकसद भारत को कश्मीर मुद्दे पर बातचीत करने के लिए मजबूर करना था। इस घुसपैठ के जवाब में भारतीय सशस्त्र बलों ने 'ऑपरेशन विजय' शुरू किया।

ऑपरेशन में सैन्य कार्रवाइयों की एक श्रृंखला शामिल थी जिसका उद्देश्य पाकिस्तानी सेना को पीछे धकेलना और टाइगर हिल सहित कब्जे वाली चोटियों को पुनः प्राप्त करना था। टाइगर हिल की लड़ाई विशेष रूप से भयंकर थी और कई हफ्तों तक चली।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

प्वाइंट 4875 की लड़ाई (बत्रा टॉप) - प्वाइंट 5140 पर कब्जा करने के बाद, 7 जुलाई 1999 को, कैप्टन विक्रम बत्रा के नेतृत्व में 13 जेएके आरआईएफ को प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने का काम सौंपा गया था। कैप्टन बत्रा ने दुश्मन के साथ आमने-सामने की लड़ाई में शामिल होकर हमले का नेतृत्व किया।

उन्होंने अकेले ही बहुत करीब से दुश्मन के पांच लड़ाकों को मार गिराया और गंभीर रूप से घायल हो गए। अपनी चोटों के बावजूद, वह अगले दुश्मन संगर की ओर बढ़े और दुश्मन की स्थिति को साफ़ करने के लिए हथगोले फेंके।

उनकी बहादुरी ने साथी सैनिकों को दुश्मन को कब्जे वाली जगह से हटाने के लिए प्रेरित किया। बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया। उनके निडर दृढ़ संकल्प और नेतृत्व ने उनकी कंपनी के लोगों को उनकी मौत का बदला लेने और अंततः प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने के लिए प्रोत्साहित किया। इन लड़ाइयों ने जीत हासिल करने में भारतीय सैनिकों की बहादुरी, लचीलेपन और दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित किया।

कारगिल की लड़ाई लगभग दो महीने तक चली, भारतीय सशस्त्र बलों ने घुसपैठ किए गए क्षेत्रों पर सफलतापूर्वक कब्जा कर लिया। इससे पाकिस्तानी सेना को नियंत्रण रेखा के पार पीछे हटने के लिए मजबूर होना पड़ा। यह संघर्ष आधिकारिक तौर पर 26 जुलाई 1999 को समाप्त हो गया, जब भारत ने अपने क्षेत्र पर पूर्ण नियंत्रण हासिल कर लिया।

Kargil Vijay Diwas 2023: How the Indian Army drove Pakistan in the Kargil war, know its glorious history

ऑपरेशन विजय में उच्च ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में गहन युद्ध संचालन शामिल था, जिससे भारतीय सैनिकों को महत्वपूर्ण चुनौतियां मिलीं। हालाँकि, अपनी बहादुरी, दृढ़ संकल्प और बेहतर सैन्य रणनीति के माध्यम से, भारतीय सेना ने घुसपैठ वाले क्षेत्रों को पुनः प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की।

कारगिल विजय दिवस का महत्व - कारगिल युद्ध के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले हमारे बहादुर सैनिकों को सम्मान देने के लिए कारगिल विजय दिवस प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इस दिन, देश भर में विभिन्न स्मारक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें पुष्पांजलि समारोह, स्मारक सेवाएं, परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रम शामिल हैं। सैनिकों के बलिदान को याद किया जाता है और राष्ट्र के लिए उनके योगदान को स्वीकार किया जाता है।

करगिल युद्ध को राष्ट्रीय संयम की रणनीति के लिए याद किया जाएगा, क्योंकि बहुत कुशलतापूर्वक युद्ध को करगिल-सियाचिन सेक्टरों तक ही सीमित रखा गया था। करगिल युद्ध को उसके सामरिक आश्चर्यों और तीव्रता से कार्यान्वित त्रि-सेवा (जल, थल, नभ) सैन्य रणनीति और योजना के लिए हमेशा याद किया जाएगा।