Manish Sisodiya Case: Kejriwal के सामने 10 साल में सबसे बड़ी चुनौती, मनीष सिसोदिया AAP के लिए कितने जरूरी हैं

 
Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP
सत्येंद्र जैन और फिर मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी से आम आदमी पार्टी के 10 साल के इतिहास में अरविंद केजरीवाल के सामने सबसे बड़ी चुनौती है।

Manish Sisodiya Case: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एक ऐसे नेता हैं जिन्हें अक्सर कक्षाओं में छात्रों के साथ बातचीत करते हुए देखा गया है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को अपनी गिरफ्तारी से पहले छात्रों से भावनात्मक अपील करते हुए कहा, "यह मत सोचो कि अगर मनीष चाचा जेल जा रहे हैं, तो स्कूलों में छुट्टियां शुरू हो गई हैं।

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को दिल्ली शराब घोटाला मामले में पांच दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया है।  सीबीआई ने आगे की पूछताछ के लिए मनीष सिसोदिया की पांच दिन की रिमांड की मांग की है।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

सत्येंद्र जैन और फिर मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी से आम आदमी पार्टी के 10 साल के इतिहास में अरविंद केजरीवाल के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। सिसोदिया दिल्ली के शिक्षा मॉडल के पोस्टर  ब्वॉय हैं। वहीं कई बार दावा किया जाता है कि एक तरह से दिल्ली की सरकार को वही चलाते हैं। 

दिल्ली के सरकारी स्कूलों के छात्रों का प्रदर्शन और स्मार्ट क्लासरूम, जो अपने बच्चों को निजी स्कूलों में भेजने वाले माता-पिता भी देखते हैं। शिक्षा के अलावा, मनीष सिसोदिया दिल्ली सरकार में 17 अन्य विभागों को संभालने वाले व्यक्ति हैं।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सबसे भरोसेमंद सिपहसालार भी हैं। सिसोदिया न केवल दिल्ली सरकार के कामकाज की कुंजी हैं, बल्कि वे दिल्ली में केजरीवाल सरकार द्वारा शुरू किए गए सुधारों का चेहरा भी हैं।

यही कारण है कि मनीष सिसोदिया की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा गिरफ्तारी को न केवल केजरीवाल की अगुवाई वाली दिल्ली सरकार के लिए बल्कि आम आदमी पार्टी और एक प्रभावशाली राष्ट्रीय खिलाड़ी के रूप में विकास की उसकी आकांक्षाओं के लिए एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

विडंबना यह है कि पिछले साल मई में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में उनके कैबिनेट सहयोगी सत्येंद्र जैन को गिरफ्तार किए जाने के बाद मनीष सिसोदिया के विभागों का विस्तार किया गया था। सिसोदिया दिल्ली सरकार की फीडबैक यूनिट (FBU) को लेकर भी आलोचना का सामना कर रहे हैं, जो कथित तौर पर राजनीतिक जासूसी में शामिल रही है।

गृह मंत्रालय ने पिछले हफ्ते फीडबैक यूनिट (FBU) स्नूपिंग मामले में मनीष सिसोदिया पर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी थी। सिसोदिया दिल्ली सरकार के सतर्कता विभाग के प्रमुख हैं जिसके तहत एफबीयू बनाया गया था।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

संयोजक अरविंद केजरीवाल के बाद मनीष सिसोदिया आप के सबसे प्रमुख चेहरे हैं। सिसोदिया की गिरफ्तारी का इससे बुरा समय नहीं हो सकता था। आप कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में चुनाव लड़ने की कोशिश कर रही है।दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) पर नियंत्रण हासिल करने के बाद उसने बीएमसी चुनाव के लिए भी कमर कस ली है। बीएमसी, मुंबई का नागरिक निकाय, देश का सबसे धनी नागरिक निकाय है।

आप की राजनीतिक आकांक्षाएं सिसोदिया की गिरफ्तारी से न केवल उसकी भ्रष्टाचार मुक्त छवि को नुकसान पहुंचने के कारण आहत हो सकती हैं, बल्कि इसलिए भी क्योंकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिसोदिया द्वारा देखे जा रहे विभागों को आवंटित करना पड़ सकता है, अगर उन्हें लंबे समय तक सलाखों के पीछे रहें।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

मनीष सिसोदिया ने रविवार को सीबीआई की पूछताछ में पेश होने के दौरान खुद कहा कि उन्हें सात से आठ महीने जेल में रहना पड़ सकता है। सिसोदिया ने कहा था, "भले ही मैं 7-8 महीने जेल में रहूं, मेरे लिए खेद महसूस न करें, गर्व करें। आप ने मनीष सिसोदिया को "भारत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मंत्री" के रूप में पेश किया है। इसलिए, "मनीष चाचा" का लंबे समय तक दूर रहना आप के लिए संभालना आसान नहीं होगा। 

अडाणी मुद्दे से लोगों का ध्यान हटाने के लिए सिसोदिया को गिरफ्तार किया गया : आप

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और केंद्र पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी ‘‘भाजपा की तानाशाही के अलावा और कुछ नहीं’’ है।

सिंह ने कहा कि अडाणी मामले में लोगों का ध्यान भटकाने के लिए यह कार्रवाई की गई है। सिंह ने कहा, ‘‘गरीब बच्चों के कल्याण के लिए जी तोड़ मेहनत करने वाले नेता को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। मनीष सिसोदिया के घर पर छापेमारी की गई, लेकिन कुछ नहीं मिला। अडाणी को लेकर मचे हंगामे से जनता का ध्यान भटकाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।’’

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा उन नेताओं और उनकी पार्टियों को ‘‘परेशान’’ कर रही है, जिन्होंने अडाणी मामले की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराने की मांग की थी। सिंह ने आरोप लगाया, ‘‘उन्होंने उन नेताओं को परेशान करना शुरू कर दिया है, जो अडाणी मामले की जेपीसी जांच की मांग कर रहे थे।

सीबीआई, सेबी, आयकर विभाग सब खामोश हैं। एक तरफ अडाणी हैं, जो करोड़ों रुपये की हेराफेरी कर रहे हैं और बिना किसी जांच के खुलेआम घूम रहे हैं तथा दूसरी तरफ वे एक ऐसे नेता को गिरफ्तार कर रहे हैं, जो समर्पित रूप से काम कर रहे हैं।’’

अमेरिका की ‘हिंडनबर्ग रिसर्च’ ने अडाणी समूह की कंपनियों पर शेयर कीमतों में हेराफेरी करने के आरोप लगाए थे। अडाणी समूह ने आरोपों को झूठ बताते हुए खारिज कर दिया है। सिंह ने दावा किया कि भाजपा आप की उपलब्धियों और लोकप्रियता से ‘ईर्ष्या’ करती है।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा आम आदमी पार्टी की उपलब्धियों और बढ़ती लोकप्रियता से जलती है...मैंने कल कहा था कि यह तानाशाही की पराकाष्ठा है और मैं उस बयान को दोहराता हूं। लेकिन लोग सब कुछ देख रहे हैं और वे न्याय सुनिश्चित करेंगे। यह तानाशाही है। जल्द इस तानाशाही का अंत होगा।’’

उन्होंने कहा कि आप आंदोलन से पैदा हुई है और इसके नेता जेल जाने से नहीं डरते। दिल्ली पुलिस पर हमला करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि आप के कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेने के लिए पुलिसकर्मियों को आप कार्यालय के भीतर भेजा गया।

Manish Sisodia Case: Kejriwal's biggest challenge in 10 years, how important Manish Sisodia is to AAP

सिंह ने आरोप लगाया, ‘‘पुलिसकर्मी हमारे पार्टी कार्यालय के अंदर आए और हमारे कार्यकर्ताओं तथा नेताओं को हिरासत में ले लिया। यह भाजपा की तानाशाही की पराकाष्ठा है। दिल्ली पुलिस और तमाम केंद्रीय एजेंसियां भाजपा के इशारे पर काम कर रही हैं।