Misa Bharti: यादवों के खिलाफ JDU सांसद ने की थी टिप्पणी, अब Misa Bharti ने की आलोचना

 
Misa Bharti
एक दिन पहले वरिष्ठ राजनेता ने दावा किया था कि राज्य के मुस्लिम और यादव समुदाय - जो राजद के मुख्य मतदाता हैं - ने लोकसभा चुनाव में उन्हें वोट नहीं दिया। 

Misa Bharti: जनता दल (यूनाइटेड) के नेता देवेश चंद्र ठाकुर की यादवों और मुसलमानों पर टिप्पणी कर दी है। इस टिप्पणी पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की मीसा भारती ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने पूछा कि देवेश चंद्र ठाकुर क्या 'संदेश' भेजने की कोशिश कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा, "उन्हें ऐसा बयान क्यों देना पड़ा? उन्होंने चुनाव जीता है और अब उन्हें अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला है।" बिहार के पाटलिपुत्र सीट से निर्वाचित लोकसभा सदस्य मीसा भारती ने कहा कि यदि वह इस तरह के बयान दे रहे हैं तो वह क्या संदेश देना चाह रहे हैं?

Misa Bharti

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'सबका साथ, सबका विश्वास' नारे पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं कि सबका साथ, सबका विश्वास होना चाहिए। तो फिर उनके सांसद ऐसी टिप्पणियां क्यों करते हैं।" प्रधानमंत्री मोदी की भारतीय जनता पार्टी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जेडी(यू) सहयोगी हैं।

उन्होंने कहा, ठाकुर ऐसा क्यों कह रहे हैं और इसका क्या कारण है? सीतामढ़ी के लोगों को इसका पता लगाना होगा। उन्होंने अपना नेता इसलिए चुना है ताकि वह क्षेत्र की प्रगति में मदद कर सके। भारती ने सवाल किया, ‘‘वह ऐसे बयान क्यों दे रहे हैं जिससे उनके क्षेत्र के लोगों में विभाजन पैदा होगा।’’

Misa Bharti

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में ठाकुर सीतामढ़ी निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए। एक दिन पहले वरिष्ठ राजनेता ने दावा किया था कि राज्य के मुस्लिम और यादव समुदाय - जो राजद के मुख्य मतदाता हैं - ने लोकसभा चुनाव में उन्हें वोट नहीं दिया।

“मुस्लिम समुदाय का एक व्यक्ति किसी काम से मेरे पास आया। मैंने उनसे पूछा कि क्या उन्होंने आरजेडी को वोट दिया? तो उन्होंने जवाब दिया कि हां, उन्होंने लालटेन (आरजेडी का चुनाव चिह्न) को वोट दिया। मैंने उससे कहा कि चाय और मिठाई खाकर चले जाओ, फिर मैं तुम्हारा काम नहीं करूंगा।

Misa Bharti

उन्होंने (मुस्लिम और यादवों ने) सिर्फ इसलिए 'तीर' (जेडीयू का चुनाव चिन्ह) को वोट नहीं दिया क्योंकि उन्हें हमारे चुनाव चिन्ह में नरेंद्र मोदी का चेहरा दिखाई दिया। उन्होंने कहा, "मैंने हमेशा दोनों समुदायों के लोगों की मदद की है, फिर भी किसी ने हमें वोट नहीं दिया।" 

Misa Bharti