Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev: भ्रामक विज्ञापनों पर सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि के गुरु बाबा रामदेव को किया तलब, जानिये क्या है पूरा मामला ?

 
Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev
सुप्रीम कोर्ट ने आज भ्रामक विज्ञापन मामले में अवमानना नोटिस का जवाब देने में विफल रहने पर पतंजलि को कड़ी फटकार लगाई और सह-संस्थापक और योग गुरु रामदेव को समन भेजकर कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev: सुप्रीम कोर्ट में पातंजली के खिलाफ पिछले साल भ्रामक विज्ञापन प्रचारित करने की याचिका इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दायर की थी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना का नोटिस 27 फरवरी 2024 को पतंजलि को भेजा था।

पतंजलि नोटिस का जवाब देने में विफल रहा। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने काफी कठोर आपत्ति जताई और पतंजलि को कड़ी फटकार लगाई और कंपनी के सह-संस्थापक और योग गुरु रामदेव को समन भेजकर कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev

पातंजलि के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की याचिका पर 21 नवंबर 2023 को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद को आड़े हाथ लिया था और कहा था- एलोपैथी दवाओं के खिलाफ झूठे दावों वाले विज्ञापन पर तत्काल रोक लगाएं अन्यथा हम आप पर भारी जुर्माना लगाएंगें।

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार एलोपैथी आदि आधुनिक चिकित्सा प्रणालियों के खिलाफ भ्रामक दावे और विज्ञापन प्रकाशित करने के लिए पतंजलि आयुर्वेद को कड़ी फटकार लगाई। जस्टिस अहसानुद्दीन अमानुल्लाह और जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा की बेंच पतंजलि आयुर्वेद के भ्रामक विज्ञापनों के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

जस्टिस अमानुल्लाह ने मौखिक टिप्पणी की कि पतंजलि आयुर्वेद के भ्रामक विज्ञापन तत्काल बंद करने होंगे, इसके उल्लंघन को हम गंभीर मानेंगे। उन्होंने चेतावनी दी कि खास बीमारी को ठीक करने के बारे में झूठा दावा किया गया तो ऐसे हर उत्पाद पर एक करोड़ रुपए तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev

21 नवंबर को सुनवाई के दौरान पतंजलि आयुर्वेद के वकील ने सुप्रीम कोर्ट को आश्वस्त किया था कि भविष्य में ऐसा कोई विज्ञापन प्रकाशित नहीं करेंगे और यह भी सुनिश्चित करेंगे कि मीडिया में भी किसी तरह के भ्रामक बयान न दिए जाएं। इस आश्वासन को अदालत ने अपने आदेश में भी दर्ज किया था।

सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा था कि वह इस मुद्दे को एलोपैथी बनाम आयुर्वेद की बहस नहीं बनाना चाहती बल्कि भ्रामक विज्ञापनों की समस्या का वास्तविक समाधान तलाशना चाहती है। बेंच ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल केएम नटराज से कहा कि वह इस समस्या के समाधान के लिए केंद्र सरकार से विचार विमर्श कर उपयुक्त सिफारिशें पेश करें।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev

इस मामले में अगली सुनवाई 5 फरवरी 2024 को होगी। सुप्रीम कोर्ट ने 27 फरवरी 2024 को योग गुरु बाबा रामदेव के स्वामित्व वाली पतंजलि आयुर्वेद और उसके प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण को अपने उत्पादों के भ्रामक विज्ञापनों के खिलाफ उसके आदेश का उल्लंघन करने के लिए अवमानना नोटिस जारी किया।

अदालत ने पंतजलि को अगले आदेश तक अपने औषधीय उत्पादों का विज्ञापन करने से भी रोक दिया है। शीर्ष अदालत ने 'एलोपैथी के खिलाफ गलत सूचना' के संबंध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की याचिका पर सुनवाई करते हुए पतंजलि समूह की खिंचाई की थी।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev

इस मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस अमानुल्लाह ने कहा कि भ्रामक विज्ञापनों को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता पीएस पटवालिया ने इस बात पर प्रकाश डाला कि पतंजलि ने योग की मदद से मधुमेह और अस्थमा को 'पूरी तरह से ठीक' करने का दावा किया था।

जस्टिस अमानुल्ला ने कहा कि भविष्य में ऐसा करने पर प्रति उत्पाद विज्ञापन पर एक करोड़ रुपए जुर्माना लगाया जाएगा। शीर्ष कोर्ट ने 27 फरवरी को यह पूछा था कि क्यों ना पतंजलि के खिलाफ कार्रवाई की जाए। विज्ञापनों में छपे फोटो के आधार पर नोटिस जारी किया गया है।

Supreme Court Summons Yoga Gur Ramdev

इसके साथ ही चेतावनी देते हुए कोर्ट कहा कि प्रिंट या अन्य मीडिया में किसी भी रूप में किसी भी चिकित्सा प्रणाली के खिलाफ बयान ना दें। आईएमए की शिकायत के अनुसार, रामदेव कथित तौर पर मेडिकल बिरादरी द्वारा इस्तेमाल की जा रही दवाओं के खिलाफ सोशल मीडिया पर गलत जानकारी फैला रहे थे।

कोर्ट ने अगली सुनवाई 15 मार्च 2024 को तय की गई थी। हालांकि 19 मार्च 2024 को सुनवाई हुई और पतंजलि के सह संस्थापक रामदेव को अवमानना का नोटिस का जवाब नहीं देने पर उन्हें समन भेजा और कोर्ट में अगली तारीख को पेश होने का आदेश भी दिया है।