Agra News: मृतक की मौसी ने थाने पर किया ऐसा काम, उड़े पुलिसकर्मियों के होश

 
Agra News
आगरा में युवक का अपहरण करने के बाद हत्या कर दी गई। इस हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा तो कर दिया, लेकिन लाश अभी तक बरामद नहीं कर सकी है। इसी को लेकर ग्रामीणों का आक्रोश फूट पड़ा।

Agra Crime News: आगरा में अपहरण कर युवक की हत्या के 6 दिन बाद भी पुलिस शव बरामद नहीं कर सकी। इससे शनिवार को ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। मृतक की मौसी ने मलपुरा पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए थाने में खुदकुशी की कोशिश की। पुलिस ने रस्सी छुड़ा लिया। इससे थाने के गेट पर सड़क जाम कर ग्रामीणों ने करीब 3 घंटे तक हंगामा किया।

परिजन ने बताया कि मलपुरा, मुख्य बाजार में रहने वाले मादक पदार्थ तस्कर राहुल जोशी ने गैंग के साथ मिलकर नगला हट्टी निवासी सुशील कुमार (24) का 2 जून को फिरौती के लिए अपहरण किया। फिरौती न मिलने पर हत्या कर दी। आरोपी के कबूलने के बाद भी पुलिस शव बरामद नहीं कर सकी है।

Agra News

शनिवार सुबह करीब 7 बजे आक्रोशित परिजन और ग्रामीण मलपुरा थाने का घेराव करने पहुंच गए। थाने के सामने ट्रैक्टर-ट्रॉली व अन्य वाहनों को सड़क पर खड़े कर ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। इस दौरान मृतक की मौसी राजश्री व अन्य महिलाएं फांसी-फांसी चिल्लाते हुए रस्सी लेकर थाने के अंदर घुस गईं। पेड़ पर रस्सी लटकाकर राजश्री ने खुदकुशी की कोशिश की।

पुलिसकर्मियों ने रस्सी छुड़ाई। थाने के गेट पर सुबह 10 बजे तक जाम लगा रहा। ग्रामीणों ने पुलिस बिकाऊ होने के नारे भी लगाए। थानाध्यक्ष ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। ग्रामीणों ने कहा सातवां दिन है और लगातार हमें गुमराह किया जा रहा है। ग्रामीणों को जांच में शामिल का आश्वासन दिया गया। तब हंगामा खत्म हुआ।

Agra News

दोपहर करीब 12 बजे फॉरेंसिक टीम पहुंची। आरोपियों को साथ ले जाकर साक्ष्य संकलन कराए। दोपहर बाद पुलिस ने राहुल जोशी, रोहित जोशी, संजीव चाहर और निशा जोशी को गिरफ्तार कर जेल भेजा। डीसीपी पूर्वी सोनम कुमार ने बताया कि पकड़े गए हत्यारोपियों ने जुर्म कबूल किया है। शव कहां ठिकाने लगाया, यह स्पष्ट नहीं है।

आरोपी राहुल जोशी, रोहित जोशी, संजीव चाहर, राजू जोशी और देवेंद्र चाहर का मादक पदार्थ गिरोह है। सुशील भी गैंग का सदस्य था। मुखबिरी के शक में सुशील की हत्या की गई है। राहुल जोशी ने घर में बंद कर साथियों के साथ हॉकी ऑर बेसबाल बैट से सुशील की पिटाई की। लहूलुहान होकर उसने दम तोड़ दिया।

Agra News

फिर उसे कार की डिकी में डालकर उसके शव को मुरैना में श्मसान घाट पर जलती चिता में फेंक दिए। मारपीट से राहुल के घर कमरे में फर्श पर खून के दाग थे, आरोपी राहुल की पत्नी निशा ने साफ किया। पुलिस ने हत्या के साक्ष्य मिटाने पर पत्नी निशा को भी जेल भेजा है।

सुशील के शव की तलाश में पुलिस हत्यारोपियों के बताई जगह मुरैना में एक श्मसान घाट पर पहुंची। पुलिस के साथ शव की पहचान के लिए मृतक के परिजन भी थे। अधजले शव को सुशील का मानने से परिजन ने इन्कार कर दिया। पुलिस ने अधजले शव का डीएनए भी नहीं कराया।

Agra News

2 जून को सुशील की मां भूरी देवी ने पुलिस को बेटे के अपहरण की सूचना दी थी। मलपुरा पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की। परिजन ने बताया कि 4 जून को हत्या की सूचना मिली। पुलिस ने तब गुमशुदगी को एफआईआर में बदला। आरोप है कि पुलिस के संरक्षण में ही मादक पदार्थ गिरोह मलपुरा में पनपा। पुलिस को गिरोह से हफ्ता मिलता है। पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से मादक पदार्थ में गांजा, चरस व अफीम का कारोबार क्षेत्र में चल रहा है।