Bhagalpur News: दारोगा को प्रेमिका ने दिखाये तेवर तो उड़े होश, थाने में करनी पड़ी शादी

 
Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station
Bhagalpur Sub Inspector Marriage: दारोगा और उसकी प्रेमिका की शादी को लेकर थाना में काफी देर तक गहमागहमी रही लेकिन अंत में जीत हुई प्यार की। प्रेमिका ने प्रेमी दरोगा से महिला थाने में शादी की और भीम राव अंबेदकर को साक्षी मानकर फेरे लिये।

Bhagalpur News: आज तक आपने शादियां मंदिर या घरों में होती देखी होंगी, लेकिन आज जो हम जिस शादी के बारे में आपको बता रहे हैं वह संविधान निर्माता बाबा भीमराव अंबेडकर की तस्वीर के सामने शादी के पवित्र बंधन में बंधने जा रहे प्रेमी जोड़े की है और ये शादी कहीं और नहीं बल्कि थाने में हुई। दरअसल यह कहानी है भागलपुर जिले के वंदना और उसके प्रेमी दरोगा मनोज की है।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

वाक्या भागलपुर में देखने को मिला। यह कहानी किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं क्योंकि इनके प्यार में कई ट्विस्ट आए, पहले प्यार, फिर धोखा, फिर प्यार के लिए प्रेमिका प्रेमी से मिलने के लिए कई हदें पार कर जाती है और अंत में प्यार की जीत होती है और महिला थाना में दोनों प्रेमी प्रेमिका ने एक साथ जीने मरने की कसमें खाई और प्रेमी ने प्रेमिका के मांग में सिंदूर भरा। सुनने में तो यह प्रेम कहानी बेहद ही सरल है लेकिन कहानी काफी मजेदार है।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

मंगलवार की देर रात भागलपुर के महिला थाना में घंटों चले हाई वोल्टेज ड्रामे का पटाक्षेप हो गया और भागलपुर एकचारी टपुआ थाना का रहने वाला रुदल पासवान का बेटा मनोज कुमार उर्फ गौरव कुमार जो वर्तमान में मुजफ्फरपुर में सब इंस्पेक्टर के पद पर कार्यरत हैं ने उसी गांव की रहने वाली जमुनी मंडल की 20 वर्षीय बेटी वंदना कुमारी से संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर की तस्वीर को साक्षी मानकर शादी कर ली। दोनों जन्म जन्मांतर के लिए एक हो गए।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

एक तरफ जहां थाने की महिला पुलिस ने ही प्रेमिका को दुल्हन की तरह सजाया तो दूसरी तरफ sc-st थाने की पुलिस ने प्रेमी को दूल्हे की तरह सेहरा पहनाया और दोनों ने बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को साक्षी मानकर उनसे आशीर्वाद लेकर प्रेमी ने प्रेमिका के मांग में सिंदूर भरा।

महिला थाना पुलिस और sc-st पुलिस के जितने भी जवान थे सबों ने वर वधू को आशीर्वाद दिया और शगुन के तौर पर दुल्हन को पैसे भी दिए गए, चारों तरफ खुशी का माहौल था। इस प्यार का सफर इतना आसान नहीं था। इस मंजिल तक दोनों प्रेमी प्रेमिका को पहुंचने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

गौरतलब हो कि प्रेमिका वंदना कुमारी 16 वर्ष की जब थी तब से उसे मनोज से प्यार हो गया था और प्यार इतना हद तक बढ़ गया कि दोनों ने शारीरिक संबंध तक बनाना शुरू कर दिया। फिर लड़के की नौकरी हो गई और वो दारोगा बन गया तो लड़की से शादी करने से इनकार कर दिया।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

लड़की अपने प्यार को पाने के लिए हर जगह मिन्नते करने लगी। यहां तक कि वरीय पुलिस अधीक्षक के कार्यालय के चक्कर काटने लगी। इसकी चर्चा प्रशासनिक खेमे में भी जोर शोर से होने लगी और अंततः प्रेमी को झुकना पड़ा और प्रेमिका की जीत हुई।

Bhagalpur News: When the girlfriend showed attitude to the constable, she was shocked, had to get married in the police station

दोनों ने एक साथ जीने मरने की कसमें खाई और डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को साक्षी मानकर भागलपुर के महिला थाने में प्रेमी ने प्रेमिका के मांग में सिंदूर भरा। दोनों ने अंतरजातीय विवाह किया। एक की जाति पासवान और दूसरे की जाति मंडल है। समाज की अवधारणा बदलने के लिए दोनों ने थाने में बिना दान दहेज के अंतरजातीय विवाह किया।