Indore News : पिता की जान बचाने के लिये बेटी ने कोर्ट से जीती ‘लड़ाई’, जानिये क्या है पूरा मामला

 
Indore News
मध्य प्रदेश की मिनी मुंबई इंदौर से एक बेटी बड़ी खबर सामने आई है। जहां बेटी को इंदौर हाईकोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए लिवर डोनेट करने की परमिशन दे दी है।

Indore News : मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर से लिवर डोनेशन को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां किसान पिता लिवर की बीमारी से जूझ रहे थे। उन्हें 27 जून यानी गुरुवार को इंदौर हाईकोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए उनकी 17 साल की बेटी को लिवर डोनेट करने के लिए परमिशन दे दी है।

परमिशन मिलते ही अस्पताल ने लिवर ट्रांसप्लांट की तैयारी शुरु कर दी है। इंदौर ग्रामीण बेटमा निवासी शिवनारायण बाथम पिछले 6 सालों से लिवर की बीमारी से जूझ रहे हैं। डॉक्टरों द्वारा उन्हें दो महीने पहले लिवर ट्रांसप्लांट कराने के लिए कहा था।

Indore News

डॉक्टरों द्वारा उन्हें कहा गया था कि लिवर ट्रांसप्लांट के अलावा कोई दूसरा उपचार संभव नहीं है। इसके बाद बड़ी बेटी प्रीति अपने पिता को लिवर देने के लिए तैयार हो गई, लेकिन परिजनों के सामने समस्या यह थी कि वह 17 साल 10 महीने की थी।

Indore News

कानूनी रुप से वह लिवर डोनेट नहीं कर सकती थी। कोर्ट की परमिशन के बिना डॉक्टरों ने लिवर ट्रांसप्लांट के लिए मना कर दिया था। एडवोकेट नीलेश मनोरे ने इंदौर स्थित हाईकोर्ट में 13 जून को याचिका दायर की थी। जिसके बाद कोर्ट ने एमजीएम मेडिकल कॉलेज के स्वास्थ्य आयुक्त को आदेश दिया था कि वह नाबालिग की जांच करके रिपोर्ट कोर्ट में पेश करें।

Indore News

साथ ही यह भी बताएं कि लिवर का कुछ हिस्सा डोनेट करने के लिए फिट है कि नहीं। फिर गुरुवार को जब सुनवाई हुई तो उसमें एमजीएम मेडिकल कॉलेज के स्वास्थ्य आयुक्त ने कोर्ट में रिपोर्ट सौंपी तो उसमें बताया गया कि नाबालिग बेटी का लिवर पूरा तरह फिट है। इसके बाद कोर्ट ने लिवर डोनेट करने की परमिशन दे दी।

Indore News