Rajasthan Crime: दुकान का शटर काटकर सिर्फ 20 मिनट में ही चुरा लिए 40 लाख के फोन, पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

 
Rajasthan Crime
सवाईमाधोपुर स्थित मोबाइल स्टोर से अज्ञात चोरों ने विभिन्न कंपनियों के 90 एंड्रॉइड फोन अनुमानित कीमत 40 लाख रुपए, नकद 1.7 लाख रुपए की नकदी चुरा ले गए। 

Rajasthan Crime: पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता ने बताया कि आरोपी राहुल जायसवाल पुत्र नमोनाथ प्रसाद जायसवाल एवं अनील कुमार यादव पुत्र लोरिक राय यादव निवासी घोड़ासन, जिला मोतीहारी पूर्वी चम्पारण बिहार है। उन्होंने बताया कि 30 मई की रात को बजरिया स्थित व्यापारी रितेश जैन के मोबाइल स्टोर से अज्ञात चोरों ने विभिन्न कंपनियों के 90 एंड्रॉइड फोन अनुमानित कीमत 40 लाख रुपए, नकद 1.7 लाख रुपए की नकदी चुरा ले गए। 

वारदात का खुलासा करने के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विजय सिंह मीणा एवं शहर पुलिस उपाधीक्षक हेमेन्द्र शर्मा के सुपरविजन में मानटाउन थानाधिकारी राधारमन गुप्ता के नेतृत्व में विभिन्न टीमों का गठन किया गया। पुलिस की विभिन्न टीमों ने सीसीटीवी से संदिग्धों की पहचान की।

Rajasthan Crime

पुलिस ने घोड़ासन पहुंचकर सीसीटीवी कैमरे में फुटेज खंगाले। वीडियो एवं तकनीकी आधार पर आरोपियों की पहचान की और वारदात को घोड़ासन गैंग के अंजाम देने की पुष्टि की। चिह्नित चोरों की पहचान के बाद उनको पकड़ने के लिए तीन टीमें लगातार बिहार के चम्पारण, नई दिल्ली, गुडगांव गई।

इस दौरान सहायक उप निरीक्षक अजीत मोगा को मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर घोड़ासन गैंग के दो बदमाशों को गुड़गांव से दबोचने में सफलता हासिल की। घोड़ासन गैंग के तार उत्तर भारत में जुड़े हैं। यह गैंग मोबाइल की दुकान एवं शोरूम को निशाना बनाती है।

Rajasthan Crime

खास बात यह है कि लाखों रुपए के मोबाइल चोरी करने वाले गैंग के सदस्य खुद कभी मोबाइल नहीं चलाते हैं। इसलिए पकड़ पाना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बना था। गैंग चोरी के मोबाइल को नेपाल, बांग्लादेश, वियतनाम, दुबई जैसे देशों मे बेचते हैं।

पुलिस की दबिश होने पर गैंग के बदमाश नेपाल भाग जाते थे, क्योंकि नेपाल की दूरी घोड़ासन से करीब 10 किलोमीटर दूर ही है। बिहार के मातिहारी जिले का घोड़ासन थाना चोरी लूट डकैती की वारदात करने वाले बदमाशों के लिए बदनाम है।

Rajasthan Crime

यहां दस साल के बच्चे से 50 साल की उम्र तक के वयस्क को अपराध का प्रशिक्षण दिया जाता है। गिरोह के लिए आरोपियों को चोरी का माल बेचने के लिए नेपाल बहुत आसान जगह है। आरोपी अब तक अलवर, करनाल, नागौर, केरल, नई दिल्ली में चोरी की वारदात को अंजाम दे चुके हैं।

पुलिस के अनुसार घोड़ासन गैंग के सदस्य 24 व 25 मई को मोबाइल स्टोर की रैकी के लिए सवाईमाधोपुर आए थे। गैंग ने लक्ष्य निर्धारित कर घटना की रात को नई दिल्ली से सवाईमाधोपुर पहुंचे और तड़के चार बजे दुकान का शटर काटकर मात्र 15 से 20 मिनट में मोबाइल चुरा ले गए।

Rajasthan Crime

पुलिस को गुमराह करने के लिए बदमाश दो ग्रुप में विभाजित हो गए। एक गैंग कोटा की तरफ और दूसरी गैंग नई दिल्ली की तरफ चली गई। प्रारभिक पूछताछ के दौरान आठ से नौ सदस्यों ने इस वारदात को अंजाम दिया था। वारदात में लिप्त अन्य सदस्यों को गिरफ्तार करने एवं मोबाइल बरामदगी के प्रयास किए जा रहे हैं।