Sarv Seva Sangh Varanasi: विरासत के लिए लोकतंत्र सेनानियों और राजनीतिक दलों ने भरी हुंकार, दे रहे है बनारस में धरना

BY - Vinay Yadav

 
Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras
वाराणसी के राजघाट स्थित सर्व सेवा संघ को ध्वस्त करने के विरोध में देशभर के सामाजिक कार्यकर्ता, बुद्धिजीवी, लोकतंत्र सेनानी और गांधीवादियों ने आवाज बुलंद की है। शुक्रवार को सुबह से लेकर शाम तक सर्व सेवा संघ परिसर में गतिविधियां तेज रहीं। 

Sarv Seva Sangh Varanasi: वाराणसी के राजघाट स्थित सर्व सेवा संघ को बचाने के लिए गांधीवादी विचारक और बुद्धिजीवियों ने शुक्रवार सुबह से धरना शुरू कर दिया। महात्मा गांधी, विनोबा भावे और जयप्रकाश नारायण की विरासत को बचाने के लिए दिनभर धरना प्रदर्शन चलता रहा।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

हालांकि, रेलवे का ध्वस्तीकरण दस्ता और बुलडोजर सर्वसेवा संघ के भवनों को गिराने नहीं पहुंचा। देश भर से पहुंचे लोगों ने शासन, प्रशासन और रेलवे के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। एक तरफ शुक्रवार सुबह बारिश हो रही थी।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

दूसरी तरफ राजघाट के सर्वसेवा संघ परिसर में गतिविधियां तेज हो गईं। सुबह से ही लोगों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था। सर्वसेवा संघ भवन को ध्वस्त करने के विरोध में जुटे सामाजिक कार्यकर्ता, बुद्धिजीवी, लोकतंत्र सेनानी और गांधीवादी प्रवेश द्वार पर ही धरने पर बैठ गए।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

शासन और प्रशासन पर मनमानी का आरोप - लोकतंत्र सेनानी राम धीरज के नेतृत्व में सभी ने विरोध मार्च निकालकर नारेबाजी की। वक्ताओं ने कहा कि जमीन की रजिस्ट्री और डीड पेपर होने के बाद भी शासन और प्रशासन मनमानी कर रहे हैं।

वह किसी भी कीमत पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, विनोबा भावे और जयप्रकाश नारायण की विरासत को जमींदोज नहीं होने देंगे। शासन व प्रशासन के बुलडोजर का मुंह बापू के अहिंसा के हथियार से दिल्ली की ओर मोड़ देंगे।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

धरोहर को गिराना है तो हमारे ऊपर से बुलडोजर लेकर जाएं - कांग्रेस के पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा ने कहा कि हम लोग यहां बैठकर बुलडोजर का इंतजार कर रहे हैं। यह किसी की निजी जमीन नहीं बल्कि देश की धरोहर है।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

अगर इस धरोहर को गिराना है तो हमारे ऊपर से बुलडोजर लेकर जाएं और गिराए, लेकिन हम नहीं हटने वाले। कांग्रेस के प्रांतीय अध्यक्ष अजय राय ने कहा कि सर्वसेवा संघ की जमीन को सरकार अधिग्रहीत करने जा रही है। लगभग 60 साल से यह जमीन इनकी है।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

यहां गांधी के विचारों वाले लोग रहते हैं। अब इस जमीन को हड़पने की कोशिश हो रही है। जब तक सरकार इस आदेश को वापस नहीं लेती है तब तक हम यहां ऐसे ही रहेंगे। समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह पटेल ने कहा कि सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। चाहे कुछ भी हो जाए हमारे ऊपर से बुलडोजर चल जाए, हम इस विरासत को ध्वस्त नहीं होने देंगे।

नहीं पहुंचा रेलवे, कोर्ट के फैसले का इंतजार - राजघाट स्थित सर्व सेवा संघ के अवैध निर्माण को हटाने के विरोध और कोर्ट में मामला लंबित होने से रेलवे अधिकारियों का दल नहीं पहुंचा। हालांकि विरोध करने के लिए 20 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ता देश के अलग-अलग राज्यों से सर्व सेवा संघ मुख्य द्वार पर दिन भर धरने पर बैठे रहे। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के उप मुख्य अभियंता आकाशदीप ने बताया कि मामला कोर्ट में होने की वजह से फिलहाल कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। कोर्ट के फैसले का इंतजार है। 

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

'सरकार को स्वीकार नहीं है कि गांधी की संस्थाएं चलें' - सर्वसेवा संघ के प्रबंधक ट्रस्टी महादेव विद्रोही ने बताया कि लालबहादुर शास्त्री और जगजीवन राम के प्रयास से रेलवे से जमीन खरीदी गई थी। दो भूखंडों का दाखिल खारिज सर्व सेवा संघ के नाम पर है।

Sarv Seva Sangh Varanasi: Democracy fighters and political parties shout for heritage, are protesting in Banaras

एक भाग के लिए 2019 में दाखिल खारिज के लिए आवेदन किया गया था। अब अचानक रेलवे कह रहा है कि दस्तावेज गलत है। जिस अधिकारी ने बेचा उसे ऐसा करने का अधिकार नहीं था। सरकार को स्वीकार नहीं है कि गांधी की संस्थाएं चलें। यह प्रॉपर्टी सरकार की नहीं सर्वसेवा संघ की है।