Shamli Crime: युवक की मौत पर परिजन बोले - रात को ले गई पुलिस, सुबह घर के बाहर छोड़ा शव

 
Shamli Crime
झिंझाना थाना के बिड़ोली गांव में व्यक्ति की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि पुलिस शनिवार की रात व्यक्ति लेकर गई थी।

Shamli Crime: उत्तर प्रदेश के शामली जनपद के झिंझाना थानाक्षेत्र के बिड़ोली गांव में व्यक्ति की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि पुलिस शनिवार की रात व्यक्ति लेकर गई थी। रात में शव घर के बाहर शव डालकर फरार हो गई।

वहीं सीओ ने आरोप को बेबुनियाद बताया है। परिजनों के अनुसार क्षेत्र के गांव बिडौली निवासी भूरा पुत्र महबूब (33) को पुलिस 18-19 की रात्रि पूछताछ के लिए बिडौली चौकी पर ले गई थी। मृतक के भाई सद्दाम ने बताया कि आधे घंटे के बाद ही मेरे भाई का शव लेकर पुलिस वापस आ गई। 

Shamli Crime

परिजनों का आरोप है कि पुलिस चौकी के दरोगा ने उनके भाई के साथ मारपीट की और गर्दन तोड़कर मौत के घाट उतार दिया। परिजनों ने बताया कि घर से भाई को ले जाने के बाद पुलिस कुछ देर बाद ही मरे भाई को घर पर यह कह कर डाल गई कि पुलिस के डर से घबरा रहा है। इसका इलाज कर लो।  

परिजनों ने बिडौली चौकी पुलिस पर निर्दोष को पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगाया है। सूचना के नौ घंटे बाद भी पुलिस के आला अधिकारी घटनास्थल पर नहीं पहुंचे। परिजनों के साथ-साथ ग्रामीणों में भी पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर गुस्सा फूट रहा है।

Shamli Crime

मृतक अपने पीछे पांच बेटियां व एक पुत्र (2) का छोड़ गया है। इस मामले में सीओ अमरदीप मौर्य का कहना है कि पुलिस की पिटाई से मौत का आरोप बेबुनियाद है। शव पोस्ट मार्टम को भेजा गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ही मरने का सही कारण सामने आएगा। पुलिस किसी अन्य को पकड़कर ले गई थी, भूरा को नहीं।

Shamli Crime

Shamli Crime