Varanasi BHU: अनशन के 14 दिन बाद हुई सख्त कार्रवाई, बीएचयू के जाने- माने कार्डियोलॉजिस्ट डॉ0 ओम शंकर पद से हटाए गए

 
Varanasi BHU
वाराणसी के बीएचयू हॉस्पिटल में चल रहे जाने-माने कार्डियोलॉजिस्ट प्रोफेसर ओम शंकर के अनशन ने नया मोड़ ले लिया है। शुक्रवार को उन्हें उनके अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। जो अगले आदेश तक जारी रहेगा।

Varanasi BHU: बीएचयू सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में चौथा तल और पांचवे मंजिल पर आधा जगह हृदय रोगियों के लिए आवंटित करने के आईएमएस बीएचयू निदेशक के लिखित आदेश का पालन कराने के लिए पिछले 14 दिनों से अनशन पर बैठे हृदय रोग विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर ओमशंकर को बीएचयू प्रशासन ने उनके पद से हटा दिया है। 

Varanasi BHU

उनकी जगह पर प्रो.विकास अग्रवाल को अगले आदेश तक अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी गई है। शुक्रवार की रात इसका आदेश भी जारी कर दिया गया है। कुलसचिव कार्यालय की ओर से जारी आदेश में प्रोफेसर ओमशंकर के अनशन पर बैठने और उनकी उपलब्धता न होने का हवाला दिया गया है।

Varanasi BHU

इधर बीएचयू प्रशासन की कार्यवाही के बारे में प्रोफेसर ओमशंकर का कहना है कि 11 में से वह अपने विभाग में ही अनशन कर रहे हैं। इस दौरान मरीज को देखने के साथ ही परामर्श सहित अन्य सेवा भी से रहे हैं। ऐसे में विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जो अनुपलब्धता की बात कही गई है, वह गलत है।

Varanasi BHU

इस तरह का फैसला जानबूझकर लिया गया है। उनका कहना है कि आठ मार्च को आईएमएस बीएचयू के निदेशक प्रोफेसर एसएन शंखवार ने खुद सुपरस्पेशलिटी ब्लॉक का पूरा चौथा तल और पांचवें तल पर आधा जगह आवंटित करने का लिखित आदेश दिया है।

Varanasi BHU

जिसका वह खुद पालन नहीं कर पा रहे हैं। फिलहाल, अनशन जारी रहेगा और वह विभाग के अध्यक्ष पद का चार्ज किसी को नहीं देने वाले हैं। विश्वविद्यालय के नियम के अनुसार  31 जुलाई तक अध्यक्ष का कार्यकाल है।

Varanasi BHU

Varanasi BHU

Varanasi BHU

Varanasi BHU