Varanasi Crime: टोल प्लाज़ा पर मारपीट के मामले में 8 आरोपियों को मिलीं जमानत

 
Varanasi Crime
अदालत में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता विवेक शंकर तिवारी व मनोज कुमार दूबे ने पक्ष रखा

Varanasi Crime: वाराणसी। टोल प्लाजा पर मारपीट के मामले में 8 आरोपियों को न्यायालय के द्वारा राहत दी गई है। सत्र न्यायाधीश संजीव पांडेय की अदालत ने नरायनपुर थाना चौबेपुर निवासी विनय चौहान, शहाबगंज चन्दौली निवासी रजनीकांत यादव, धानापुर चन्दौली निवासी सूरज वर्मा, मार्टिनगंज गाजीपुर निवासी सूरज कुमार, सिकन्दपुर बलिया निवासी अंकित कुमार, कादीपुर खुर्द, थाना चौबेपुर निवासी रामदुलार यादव, बेगुनिया पाण्डा, जिला गंजम

Varanasi Crime

निवासी कृष्णा सेठी व गिरधरपुर थाना चौबेपुर निवासी विमल कुमार चौबे को पचास पचास हजार रुपये की दो जमानत एवं बन्ध पत्र देने पर रिहा करने का आदेश दिया। वही न्यायालय में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता विवेक शंकर तिवारी व मनोज कुमार दूबे ने पक्ष रखा।

Varanasi Crime

अभियोजन पक्ष के अनुसार वादी राहुल राजभर ने चौबेपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। जिसमे आरोप था कि 4 मई 2024 को शाम 5:30 बजे वादी भाई रामशीष राजभर बोलेरो वाहन से अपने घर के लोगों को पूजा कराने के लिए शादियाबाद जिला गाजीपुर मार्ग से महादेव मंदिर कैथी वाराणसी गया था और दर्शन के बाद वापस आते समय कैथी प्लाजा पर टोल कटवाने के बावजूद टोल प्लाजा पर नियुक्त कर्मचारी गण के द्वारा गाली गलौज, मारपीट की जाने

Varanasi Crime

लगी तथा वादी के भाई की गाड़ी बोलेरो को तोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया। गाड़ी में बैठी महिलाओं तथा उन लोगों के साथ भी बुरी तरीके से बेरहमी से मारपीट की गई तथा महिलाओं का चेन छीन लिया गया। अदालत में अधिवक्ताओं ने तर्क दिया कि सभी आरोप बेबुनियाद व निराधार है।

Varanasi Crime

टोल प्लाजा पर वर्तमान समय में फास्ट ट्रैक के द्वारा वसूली होती है, जिसमें वादी मुकदमा द्वारा स्वयं टोल के पैसे को न देने के कारण विवाद उत्पन्न हुआ। वादी मुकदमा दबंग प्रकृत्ति का रहा है और टोल पर बैरियर तोड़ते हुए भागने का प्रयास कर रहा था और पकड़े जाने पर झूठ का मुकदमा दर्ज करा दिया।

Varanasi Crime

आरोपित बेरोजगार छात्र है जो अभी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा है और अपना खर्च चलाने के लिए टोल प्लाजा पर काम भी कर रहा हैं। टोल का मालिक क्षेत्रीय व्यक्ति होने के कारण चन्द दबंग लोग और टोल के संचालन से रंजिश व ईर्ष्या के कारण उक्त झूठ व मनगढ़ंत आरोप टोल प्लाजा के संचालक के कर्मचारियों के विरुद्ध लगाए गए हैं।

Varanasi Crime

वही न्यायालय के द्वारा दोनों पक्षो के तर्क को सुनने के बाद आरोपियों को पचास-पचास हजार रुपये की दो जमानत एवं बन्ध पत्र देने पर रिहा करने का आदेश दिया गया है।

Varanasi Crime

Varanasi Crime