Varanasi Crime: वाराणसी में लापता युवक की हत्या कर शव फेंका, परिजनों ने काटा बवाल

 
Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus
वाराणसी के करखियांव से गायब नीलेश सिंह उर्फ गोलू (26) का शव दूसरे दिन शुक्रवार की शाम गांव स्थित पोखरे में मिला। परिजनों ने हत्या करने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों के साथ फूलपुर थाने के सामने जाम लगा दिया।

Varanasi Crime: वाराणसी के करखियांव से गायब नीलेश सिंह उर्फ गोलू (26) का शव दूसरे दिन शुक्रवार की शाम गांव स्थित पोखरे में मिला। नीलेश के सिर और कान पर गहरे जख्म थे। परिजनों ने पैसे के लेनदेन के विवाद में धारदार हथियार से हत्या करने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों के साथ फूलपुर थाने के सामने जाम लगा दिया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर उचित कार्रवाई का आश्वासन देते हुए लोगों को शांत कराया।

Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus

फूलपुर थाना क्षेत्र के करखियांव गांव निवासी किसान राधेश्याम सिंह ने बताया कि उनके दो बेटों और दो बेटियों में सबसे छोटा नीलेश सिंह पैसे के लेनदेन का काम करता था। गुरुवार रात 8:30 बजे के लगभग नीलेश के मोबाइल पर कॉल आई। इस पर उसने कहा कि एक परिचित से मिल कर 10 मिनट में वापस आ रहा हूं।

Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus

नीलेश घर से बाइक लेकर निकला और फिर लौट कर नहीं आया। रात भर नीलेश की खोजबीन के बाद भी उसका पता नहीं लगा तो शुक्रवार की सुबह गांव के ही दो युवकों पर अपहरण की आशंका जताते हुए फूलपुर थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। परिजनों की शंका के आधार पर फूलपुर थाने की पुलिस ने दोनों युवकों को हिरासत में लेकर नीलेश के संबंध में पूछताछ शुरू की।

Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus

हिरासत में लिए गए दोनों युवकों ने पुलिस को बताया कि नीलेश का शव करखियांव गांव में ही एक पोखरे में फेंका गया है। दोनों से मिली जानकारी और उनकी निशानदेही के आधार पर शाम के समय पुलिस पोखरे पर पहुंची और नीलेश का शव बरामद किया। हालांकि नीलेश की बाइक और मोबाइल नहीं बरामद किया जा सका है।

Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus

उधर, नीलेश की मां मंजू सिंह की हालत बेसुधों जैसी थी और परिजन बड़ी ही मुश्किल से उन्हें संभाले हुए थे। एसीपी पिंडरा अमित पांडेय ने कहा कि  प्रकरण उधार दिए गए रुपये के लेनदेन के विवाद से जुड़ा है। एक आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। 

बड़े भाई अश्वनी सिंह ने बताया कि नीलेश पांच मिनट में घर आने की बात कह कर गया था। आधा घंटे बाद भी वह नहीं आया तो रात नौ बजे उसके मोबाइल पर हमने फोन किया, लेकिन कॉल नहीं रिसीव हुई।

Varanasi Crime: Dead body was thrown after killing a missing youth in Varanasi, relatives created ruckus

इसके बाद 9:30 बजे फोन किया, लेकिन फिर भी कॉल नहीं रिसीव हुई। रात 10 बजे के बाद नीलेश का मोबाइल स्विच ऑफ बताने लगा तो हम लोगों ने उसके दोस्तों और करीबियों से उसके बारे में पता लगाते हुए उसे खोजना शुरू किया।