Varanasi Gyanvapi Case: मां श्रृंगार गौरी समेत कई मामलों की न्यायालय में हुई सुनवाई, आगे कोर्ट ने दी ये तारीख

 
Varanasi Gyanvapi Case
वाराणसी जिला जज ने सभी वादों को गंभीर से सुना। अब अदालत ने इन सभी आवेदनों और वादों में क्रमवार सुनवाई के लिए 29 मई की तिथि नियत कर दी।

Varanasi Gyanvapi Case: वाराणसी के जिला जज संजीव पाण्डेय की अदालत में ज्ञानवापी से जुड़े मां श्रृंगार गौरी समेत कई वादों की सुनवाई हुई। श्रृंगार गौरी वाद की वादिनी राखी सिंह की तरफ से अधिवक्ता सौरभ तिवारी ने ज्ञानवापी में बंद पड़े अन्य तहखानों की एएसआई सर्वें कराने की मांग की।

 वाद संख्या 2 से 5 तक के अधिवक्ता सुधीर त्रिपाठी व सुभाष नंदन चतुर्वेदी ने इस आवेदन की प्रति मांगी, जिस पर उन्हें उपलब्ध कराई गई। इसके आलावा आदि विश्वेश्वर विराजमान वाद को सिविल जज सीनियर डिवीजन कोर्ट से स्थानांत्रित कर जिला जज की कोर्ट में सभी वादों के साथ सुनवाई किए जाने के आदेश को विधि विरुद्ध बताते हुए आदेश को रिकॉल किए जाने का अनुरोध अधिवक्ता मानबहादुर

Varanasi Gyanvapi Case

सिंह शिवम गौड़ और डीके द्विवेदी की ओर से किया गया। कहा गया कि हर वाद में अलग-अलग अनुतोष मांगी गई है। ऐसे में एक साथ सुनवाई नहीं की जा सकती। इसके आलावा सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक कोर्ट में लंबित वर्ष 1991 के प्राचीन लॉर्ड विश्वेश्वर वाद को स्थानात्रित कर जिला जज की अदालत में इस वाद को लीडिंग केस मानकर ज्ञानवापी से जुड़े सभी वादों की सुनवाई वादिनी

अनुष्का तिवारी व इंदु तिवारी के अधिवक्ता हिमांशु शेखर तिवारी ने की। इस पर लॉर्ड विश्वेश्वर के वाद मित्र विजय शंकर रस्तोगी से आपत्ति मांगी गई है।

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case

Varanasi Gyanvapi Case