Technology: 'अनवॉन्टेड ट्रैकिंग' से बचाने के लिए Google-Apple ला रहे हैं ये फीचर

 
Technology: Google-Apple are bringing this feature to protect from 'unwanted tracking'
कंपनी का यह कहना है कि अगर कोई चोरी छुपे आपके ब्लूटूथ के जरिए आपको ट्रैक कर रहा है, तो इस ऐप के जरिए आपको नोटिफिकेशन अलार्म मिलने लगेगा और आप यह आसानी से समझ लेंगे कि, आपकी इच्छा के विरुद्ध कोई आपको ट्रैक करने की कोशिश कर रहा है।

Technology: एक तरफ जहां टेक्नोलॉजी के द्वारा हमारा जीवन बेहद आसान हो गया है, हम रोजमर्रा की तमाम जरूरतों के लिए एक से एक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर इसे बेहद आसानी से मैनेज कर ले रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ टेक्नोलॉजी के नए-नए टूल्स अपनाकर लोग हमारे पर्सनल चीजों को भी आसानी से जान ले रहे हैं। 

Technology: Google-Apple are bringing this feature to protect from 'unwanted tracking'

यहां तक की ब्लूटूथ की सहायता से आसानी से आपके डिवाइस को ट्रैक करके यह पता लगाया जा सकता है, कि आप इस समय कहां हैं ? ऐसे में यह है ना यह असुरक्षा की भावना! आप अगर ऐसी जगह पर जाना चाहते हैं, जहां लोग आपको ना जान पाएं, लेकिन टेक्नोलॉजी के चलते आपको आसानी से गलत इरादे वाले लोग ट्रैक कर सकते हैं।

Technology: Google-Apple are bringing this feature to protect from 'unwanted tracking'

इसी इनसिक्योरिटी को ध्यान में रखते हुए दुनिया की 2 सबसे बड़ी कंपनी गूगल और एप्पल एक मिलकर एक नया ड्राफ्ट सबमिट किए हैं, जिसमें वह अपने यूजर्स को आसानी से 'अनवांटेड ट्रैकिंग' से बचाने का दावा कर रहे हैं।

कंपनी का यह कहना है कि अगर कोई चोरी छुपे आपके ब्लूटूथ के जरिए आपको ट्रैक कर रहा है, तो इस ऐप  के जरिए आपको नोटिफिकेशन अलार्म मिलने लगेगा और आप यह आसानी से समझ लेंगे कि, आपकी इच्छा के विरुद्ध कोई आपको ट्रैक करने की कोशिश कर रहा है। 

Technology: Google-Apple are bringing this feature to protect from 'unwanted tracking'

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही साल 2021 में एप्पल ने एंड्रॉइड डिटेक्टर ऐप लांच किया था जिसकी सहायता से लोग आसानी से अपने एयर टैग  किए हुए आइटम्स जैसे कि जैसे घडी, चाभी, वालेट, बैगपैक जैसे आइटम्स को आसानी से ढूंढ लेते थे, जब वह ऐसी जगह रख कर भूल जाते थे और उन्हें याद नहीं आता था। 

Technology: Google-Apple are bringing this feature to protect from 'unwanted tracking'

हालांकि एप्पल के इस एंड्रॉइड डिटेक्टर ऐप का गलत तरीके से इस्तेमाल किया जाने लगा और सामान की जगह पर लोकेशन ट्रक किए जाने लगे, जिसके बाद एप्पल ने अपने यूजर्स को सिक्योरिटी का माहौल देने के लिए यह नया ड्राफ्ट लांच किया है जिसमें गूगल भी काम कर रहा है। 

बता दें कि यूजर्स का फीडबैक लेने के लिए इसमें सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स को भी शामिल किया गया है ताकि इसका बेहतर से बेहतर रिजल्ट लोगों के सामने लाया जा सके। उम्मीद करते हैं कि ड्राफ्ट के आने के बाद लोग अनवांटेड ट्रैकिंग से बच सकेंगे और प्राइवेसी को एंजॉय भी कर सकेंगे।